मोदी हैं तो मुमकिन है : पोम्पियो

वॉशिंगटन
अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियो 24 जून को भारत की यात्रा पर आएंगे। इससे पहले उन्होंने भाजपा के चुनावी स्लोगन मोदी है, तो मुमकिन है का जिक्र करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और विदेश मंत्री एस जयशंकर प्रसाद की तारीफ की। बुधवार को भारत-अमेरिका व्यापार परिषद की बैठक में पोम्पियो ने कहा कि मैं देखना चाहता हूं कि मोदी दोनों देशों  के रिश्तों को और मजबूत कैसे बनाते हैं। अपने समकक्ष जयशंकर से मिलने के लिए भी उत्साहित हूं। वे एक मजबूत साथी हैं। पोम्पियो का भारत दौरा ओसाका में 28 और 29 जून  की जी-20 समिट से पहले होगा। इस दौरान मोदी-ट्रंप की मुलाकात को लेकर जमीन तैयार की जाएगी।
पोम्पियो ने कहा कि हम भारत की नई सरकार के साथ बातचीत जारी रखेंगे। मोदी ने अपने चुनाव अभियान में कहा था- मोदी है तो मुमकिन है। अब देखना है कि वह दुनिया के  साथ रिश्तों और भारत की जनता से किए वादों को कैसे संभव बनाते हैं। उम्मीद है कि वे अमेरिका के साथ रिश्तों को और मजबूत करेंगे। भारत यात्रा के दौरान ट्रम्प प्रशासन के  महत्वाकांक्षी एजेंडे पर बातचीत होगी। ''भारत के चुनाव नतीजों से आश्चर्यचकित नहीं हुआ, बल्कि मैं जानता था कि पीएम मोदी नए तरीके के नेता हैं। उन्होंने एक राज्य को 13 साल दिए। चायवाले के बेटे हैं और गरीब से गरीब का विकास उनकी प्राथमिकता में है। उन्होंने भारत के करोड़ों घरों में बिजली और गैस चूल्हे पहुंचाए हैं।''
भारत-अमेरिका के बीच विवाद कम करने पर रहेगी नजर दोनों देशों के बीच रिश्तों में बीते कुछ समय में गिरावट देखी गई है। कुछ दिन पहले ट्रंप ने भारत को जनरलाइज्ड सिस्टम   ऑफ प्रेफरेंसेज (जीएसपी) से बाहर करने का फैसला किया था। जीएसपी के तहत भारत जो उत्पाद अमेरिका भेजता है उन पर वहां आयात शुल्क नहीं लगता। हालांकि, अमेरिका का   आरोप है कि भारत अपने यहां पहुंचने वाले अमेरिकी उत्पादों पर भारी आयात शुल्क लगाता है, जिससे उसे नुकसान होता है। इसके अलावा भारत के रूस से एस-400 मिसाइल  डिफेंस सिस्टम खरीदने पर भी अमेरिका ने नाराजगी जताई। अमेरिका ने भारत पर प्रतिबंध लगाने की धमकी भी दी। वहीं, ईरान और वेनेजुएला से तेल आयात पर भी अमेरिका ने रोक लगाई है।

पोम्पियो की यात्रा हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए अहम
ट्रंप प्रशासन भारत के साथ रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने पर लगातार जोर दे रहा है। पोम्पियो भारत के अलावा श्रीलंका, जापान और दक्षिण कोरिया भी जाएंगे। भारत दौरे पर  प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री जयशंकर से बातचीत करेंगे। पोम्पियो की हिंद-प्रशांत क्षेत्रों की यात्रा 30 जून को पूरी होगी। चार देशों की इस यात्रा का खाका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के  हिंद-प्रशांत क्षेत्र की रणनीतिक साझेदारी बढ़ाने के मद्देनजर तैयार किया गया है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget