प्राकृतिक आपदा ने ली दस की जान

गोपालगंज
बिहार के गोपालगंज में प्रकृति ने कहर बरपाया है। रविवार की रात आए आंधी-तूफान और बिजली गिरने से अब तक 10 लोगों की मौत  हो गई है, वहीं कई लोग चोटिल हुए हैं। मौत का यह आंकड़ा महज 12 घंटे का है। तेज आंधी और बारिश से जुड़ी घटनाओं की चपेट में आने से लोगों की असमय मौत हो गई। लाइन होटल पर गिरा पेड़ : सोमवार की शाम तेज आंधी पानी आने से कुचायकोट में एक शख्स की मौत हो गई, जबकि तेज आंधी के कारण पेड़ उखड़ कर एक ढाबा पर गिर गया। इस घटना में ढाबे में बैठे नौ लोग दब गए। घटना बरौली के बनकट  गांव के समीप एनएच 28 की है। पेड़ के मलबे में दबकर अब तक तीन लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि छह लोग अभी भी घायल हैं।

रात भर चला पोस्टमॉर्टम 
सिधवलिया के पिपरा में आंधी में दीवार गिर गई, जिसमें दब कर एक बुजुर्ग की मौत हो गई। मंगलवार को तड़के बैकुंठपुर के दिघवा दुबौली में ट्रक की चपेट में आने से दो बाइक सवार युवकों की मौके पर ही मौत हो गई। दोनों मृतक दिघवा गांव के रहने वाले थे। महज 12 घंटे में दस लोगों की मौत से पूरा स्वास्थ्य महकमा रात भर शवों के पोस्टमार्टम में जुटा रहा। इस मौत के बाद जिले के कई थाना क्षेत्रों में कोहराम मच गया। गोपालगंज के सिविल सर्जन डॉ. नंद किशोर प्रसाद सिंह ने बताया की तेज आंधी-पानी के कारण हुई घटनाओं में कई लोगों की मौत हो गई। मुआवजे की मांग : इलाके के पूर्व विधायक मंजीत सिंह के मुताबिक तेज आंधी-पानी और  ओलावृष्टि में  10 लोगों की मौत हो चुकी है। एक दर्जन से ज्यादा लोग घायल है, जिन्हें सदर अस्पताल में भर्ती कराया गया। उनका इलाज चल रहा है। मृतक के परिजनों को चार-चार लाख रुपए मुआवजा दिलाने के लिए उन्होंने सीएम नीतीश के परामर्शी अंजनी सिंह से मुलाकात की। उन्हें मांगपत्र सौंप कर तत्काल आपदा प्रबंधन विभाग से मुआवजा दिलाने की मांग की है
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget