वर्दी के नाम पर कलंक बन चुके पुलिसकर्मिया के लिए विभाग में कोई जगह नहीं: योगी

आजमगढ़
उत्तर प्रदेश के  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आजमगढ़ जिले की समीक्षा बैठक के दौरान अधिकारियों की जमकर लास लगाई। पुलिस प्रशासन में फैले भ्रष्टाचार के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि वर्दी के नाम पर कलंक बन चुके पुलिसकर्मियों के लिए विभाग में कोई जगह नहीं है। इसके अलावा उन्होंने लगातार हो रही आपराधिक घटनाओं को रोक न पाने के लिए भी अधिकारियों से कड़े सवाल पूछे। सीएम योगी ने पूछा कि आप के आस-पास सारे संसाधन मौजूद हैं, पूरी छूट है और दावे के अनुसार आप सड़क पर ही रहते हैं फिर भी अपराध की घटनाएं ख्यों हो रही हैं? अपराध होने के बाद भी आपका ऐक्शन ख्यों नहीं दिखता। किसी घटना का जब मीडिया ट्रायल शुरू हो जाता है, उसके बाद ही आपका ऐक्शन ख्यों दिखता है। आजमगढ़ मंडल की समीक्षा बैठक के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन पुलिसकर्मियों की अपराधियों से सांठगांठ है, अभियान चलाकर उनको चिह्नित करें। वर्दी के नाम पर कलंक बन चुके लोगों की विभाग में कोई जगह नहीं है। चौकीदार सूचनाएं देकर अपराध को नियंत्रित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकते हैं। हर पखवाड़े इनके साथ बैठक करें। प्रधानों और अन्य जनप्रतिनिधियों से भी लगातार संवाद बनाए रखें। लोकतंत्र में समस्याओं के हल का सबसे प्रभावी जरिया है- संवाद। लूट होने पर संबंधित थाने के बीट सिपाही से लेकर अन्य पुलिसकर्मियों की जवाबदेही तय करें। मुख्यमंत्री ने जेलों को अपराधियों के आराम और अपराध संचालन का अड्डा बन जाने पर भी नाराजगी जताई। उन्होंने निर्देश दिया कि ऐसे लोगों को चिह्नित कर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई करें। सीएम योगी ने कहा कि आंकड़े नहीं  जनता के भरोसे को कानून-व्यवस्था का पैमाना बनाएं, इस भरोसे से ही जनता में सकारात्मक संदेश जाता है। महिलाओं और मासूम बच्चियों से दुष्कर्म की घटनाओं को कड़ाई से रोकने का र्देश देते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि रेंज स्तर पर ऐसे टॉप टेन अपराधियों की सूची बनाकर उनके खिलाफ प्रभावी कार्रवाई करें, ऐसे मामलों को फास्ट ट्रैक कोर्ट में ले जाएं और मजबूती से पैरवी करके दो महीने में उन को अधिकतम सजा दिलवाएं, ऐसा करने से ऐसी मानसिकता के अन्य अपराधी भी भयभीत होंगे। मुख्यमंत्री ने कहा कि लखनऊ तक लोगों की समस्याएं आने का मतलब स्थानीय स्तर पर प्रभावी और संतोषजनक कार्रवाई का न होना है। अधिकारी जन सुनवाई के लिए एक समय निर्धारित करें, लोगों की समस्याएं सुनकर उनका हल निकालें, इससे सरकार के कामकाज के बारे में फीडबैक तो मिलेगा साथ ही लोगों का भरोसा भी जगेगा।  सीएम योगी ने स्कूली बच्चों को किताबें न मिलने पर नाराजगी जताते हुए निर्देश दिया कि जुलाई के पहले सप्ताह में किताबें और इसी महीने में बच्चों को ड्रेस उपलब्ध कराना सुनिश्चित कराएं। उन्होंने 50 लाख रुपए से अधिक की परियोजनाओं की प्रगति पर असंतोष जताते हुए निर्देश दिया कि समयबद्ध तरीके से इन कार्यों को पूरी गुणवत्ता के साथ पूरा करने को कहा। उन्होंने कहा कि यदि कोई ठेकेदार पैसा बनाने के लालच में इन परियोजनाओं को लंबित करता है तो उसके खिलाफ एफआईआर दर्ज कर उसे जेल भेजें।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget