नई तकनीक से होगा जर्जर पुलों का पुनर्निर्माण : सीएम

मुंबई
मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि मुंबई के सभी जर्जर पुलों का पुनर्निर्माण विकसित नई आईआईटी तकनीकी से आगामी तीन से छह महीने के भीतर किया जाएगा। मुंबई सहित  पूरे एमएमआर क्षेत्र में 344 पुलों में रेलवे, एमएमआरडीए और मनपा के पुलों का ऑडिट उन्हीं से संबंधित विभागों द्वारा किया गया है। बुधवार को विधानपरिषद में प्रश्नोत्तर के  माध्यम से विरोधी पक्ष नेता धनंजय मुंडे ने मुंबई में पुलों की स्ट्रक्चरल ऑडिट में भारी गड़बड़ियों के कारण लोगों की हुई मृत्यु का मुद्दा सदन में उपस्थित किया था। मुंडे ने आरोप  लगाया कि जिस डीडी देसाई कंपनी को सरकार ने पुलों के ऑडिट करने का काम दिया है उस कंपनी का मुंबई में ऑफिस तक नहीं है। कंपनी के साथ मिलकर ऑडिट का काम करने  वाले मनपा अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग मुंडे ने की। इसके जवाब में सीएम फड़नवीस ने कहा कि मुंबई मनपा के अंतर्गत कुल 344 पुलों में से 304 पुलों का ढांचागत  सर्वेक्षण किया गया है। मुंबई पूर्व व पश्चिम उपनगर में 223 पुलों का फिर से स्ट्रक्चरल ऑडिट किया जा चुका है। बाकी के 81 पुलों का स्ट्रक्चरल ऑडिट का काम प्रगति पर है।  मुख्यमंत्री ने कहा कि सीएसएमटी पुल हादसे में दोषियों पर कार्रवाई की गई है। सदन को आश्वस्त करते हुए सीएम फड़नवीस ने कहा कि अगर स्ट्रक्चरल ऑडिट के कामों में मनपा  उपायुक्तऔर चीफ इंजीनियर संदेह के दायरे में आते हैं, तो उनकी जांच-पड़ताल करने के बाद दोषी पाए जाने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
उन्होंने कहा कि मुंबई में सभी पुलों का स्ट्रक्चरल ऑडिट नई तकनीक से किया गया है। इस आशय की प्राथमिक रिपोर्ट रेलवे प्रशासन को प्राप्त हो गई है। मुख्यमंत्री फड़नवीस ने  कहा कि पुलों की ऑडिट रिपोर्ट के बाद मुंबई मनपा और रेलवे प्रशासन की ओर से पुलों की मरम्मत के लिए उपाय योजना की जा रही है। उन्होंने कहा कि मनपा के अंतर्गत आने   वाले पुलों का हर दो वर्ष में निरीक्षण कर रिपोर्ट देना होगा। आवश्यकता अनुसार मरम्मत कामों के लिए प्रस्ताव देना होगा। मुख्यमंत्री ने कहा कि रेलवे और मनपा के बीच सामंजस्य  बनाने की जिम्मेदारी प्रमुख पुल निरीक्षक की होगी। इस चर्चा में राकांपा सदस्य राहुल नार्वेकर, विद्या चव्हाण सहित अन्य कई सदस्यों ने हिस्सा लिया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget