इमारतों की छतों पर शेड बनाने को मिलेगी मंजूरी

मुंबई
मानसून के दौरान बड़ी संख्या में इमारत गिरने की घटनाएं होती है। इमारत गिरने की घटनाओं को गंभीरता से लेते हुए मनपा प्रशासन ने छतों पर शेड बनाने के लिए मंजूरी देने का  निर्णय लिया है। मनपा प्रशासन का मानना है कि इससे इमारतों की आयु सीमा बढ़ेगी और दुर्घटनाएं कम होंगी।
उल्लेखनीय है कि हर साल मानसून के दौरान इमारतों के गिरने से कइयों की जान चली जाती है। बड़ी संख्या में इमारतों के ढहने के पीछे मानसून के दौरान मूसलाधार बारिश से  छतों पर पानी जमा हो जाता है, जिससे इमारतें कम समय में ही जर्जर हो जाती हैं। मुंबई समुद्र के किनारे होने से यहां बारिश तेज रफ्तार से होती है। इससे इमारतों की छतों पर  छेद पड़ने की संभावना बन जाती है। इमारतों के ढहने से बड़ी संख्या में लोगों कि जान चली जाती है, जिसके चलते इमारतों की सुरक्षा और उनकी आयुसीमा बढ़ाने के लिए छत पर   शेड बनाने की मंजूरी देने का निर्णय मनपा प्रशासन ने लिया है। शिवसेना नगरसेविका किशोरी पेंडेकर ने मनपा सदन में पत्र लिखकर इमारतों की सुरक्षा और आयु सीमा बढ़ाने के   लिए छतों पर शेड बनाने की अनुमति देने की गुहार लगाई थी। इस पर मनपा प्रशासन ने शेड बनाने की अनुमति देने का निर्णय लिया है। इमारतों की आयु सीमा बढ़ाने के लिए यह  भी करें इमारतों का आयुसीमा बढ़ाने के लिए सिर्फ छतों पर शेड बनाकर सुरक्षा रखने तक सीमित न रहे। मनपा प्रशासन ने लोगों से आव्हान किया है कि खुद की सुरक्षा के लिए  इमारतों का समय-समय पर स्टक्चरल ऑडिट अवश्य कराएं। इमारतों की छतों पर छेद दिखाई पड़े, तो तत्काल उसकी मरम्मत करें। इमारतों को रंग लगाकर चकाचक रखें। इमारतो  में पानी निकासी के लिए लगी पाइप लाइन खराब होने पर उन्हें बदले और इमारतों की छतों पर पानी न रुकने दें। इससे इमारतों को क्षति से बचाया जा सकेगा।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget