’राजनीति मे हर एक्शन के मायने’

पटना
 दावत-ए-इफ्तार की सियासत के बीच दो और तीन जून को 24 घंटे के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और पूर्व सीएम जीतनराम मांझी के बीच दो मुलाकातों ने बिहार की सियासत में हलचल मचा दी है।
जिस तरह से सीएम नीतीश ने मांझी को गले लगाया इससे भी कयासों का बाजार गर्म हो गया। इसके बाद तो आरजेडी और कांग्रेस ने सीएम नीतीश को महागठबंधन में आने का न्यौता दे दिया। वहीं मांझी ने भी इसी ओर इशारा किया। अब भाजपा नेता और बिहार सरकार में पूर्व मंत्री के एक बयान ने राजनीति के पूरे गणित को ही पलट कर रख दिया है। भाजपा के नेता महाचंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि जीतनराम मांझी एनडीए के करीब आना चाहते हैं।
भाजपा नेता ने कहा कि जीतनराम मांझी और नीतीश कुमार के गले मिलने ने एक संदेश दिया है। €योंकि राजनीति में जो ए€शन होता है उसके मायने होते हैं। मांझी एनडीए के करीब आना चाहते हैं और उनके शामिल होने पर विचार किया जाना चाहिए। बता दें कि दो दिन पहले ही  बिहार के डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी ने भी कहा था कि मांझी अगर  एनडीए में आना चाहें तो उसका स्वागत है।
सुशील मोदी ने कहा था कि आरजेडी नेता रघुवंश प्रसाद सिंह के लिए भी कहा था कि उनके जैसे नेताओं की आरजेडी में प्रतिष्ठा नहीं है अगर वह हमारे साथ आते हैं, तो हम उनका स्वागत करेंगे और उनका सम्मान भी करेंगे। दरअसल जेडीयू के केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं होने के फैसले के बाद से ही तमाम तरह के कयास लगाए जा रहे हैं। इसके बाद  जिस तरह से पहले कांग्रेस नीतीश कुमार के एनडीए मंत्रिपरिषद में शामिल नहीं होने के फैसले का समर्थन किया फिर जीतन राम मांझी ने नई दोस्ती की पहल की और रघुवंश प्रसाद सिंह ने आरजेडी के साथ आने का खुला ऑफर दिया इससे बिहार की सियासत में हलचल बढ़ गई है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget