मुंबई यूनिवर्सिटी का फर्जी अधिकारी पकड़ाया

उल्हासनगर
अपने आप को मुंबई यूनिवर्सिटी का अधिकारी बताकर कई स्कूलों से पैसे वसूली करने वाले एक बदमाश ठग को विट्ठलवाड़ी पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जांच के दौरान पता चला है  कि उसने फर्जी डिग्री भी हासिल की है। गिरफ्तार व्यक्ति का नाम रमेश लक्ष्मण डोंगरदिवे (35) है और वह पनवेल का निवासी बताया गया है। अपने आप को वह मुंबई यूनिवर्सिटी  का हेड ऑफ डिपार्टमेंट तथा चेंबूर के निकिता कोचिंग क्लास का मालिक बताता है। उक्त क्लास के माध्यम से उसे सात करोड़ की आमदनी होती है और सरकार को टैक्स भरने के बजाय वह स्कूलों को मदद करता है। इस तरह का लालच देकर वह स्कूलों से प्रोसेसिंग फीस के रूप में साढ़े तीन हजार रुपए मांग रहा था। उल्हासनगर-चार स्थित साने गुरुजी स्कूल  की मुख्याध्यापिका माधवी जाधव के पास जब वह इसी प्रकार पैसे मांगने आया तो उन्हें डोंगरदिवे पर शक हुआ। फिर उन्होंने विठ्ठलवाड़ी पुलिस में इसकी शिकायत की। जिसके बाद  उसे गिरफ्तार कर लिया गया। इस मामले में विठ्ठलवाड़ी पुलिस के वरिष्ठ निरीक्षक रमेश भामे ने बताया कि गिरफ्तारी के बाद पता चला कि डोंगरदिवे ने और भी पांच स्कूलों को  प्रोसेसिंग फीस के नाम पर फंसाया है, वह अपने आप को मुंबई यूनिवर्सिटी का अधिकारी बताता है तथा उनके पास एमफिल, पीएचडी की डिग्री है। जांच में पता चला है कि यह सब  फर्जी है। राज्यभर में उसने कितनी स्कूलों को ठगा है अब इसकी जांच में स्थानीय पुलिस जुट गई है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget