कानून व्यवस्था दुरूस्त करने को सख्त हुए सीएम

पटना।
मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शुक्रवार को सूबे की कानून-व्यवस्था को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की। कानून-व्यवस्था की समीक्षा बैठक में सूबे के कई आला अधिकारी मौजूद थे। कानून-व्यवस्था को लेकर हुई समीक्षा बैठक में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने आला अधिकारियों से कहा कि अब बहुत हुआ, हमें रिजल्ट चाहिए। बैठक में मुख्य सचिव, गृह सचिव, डीजीपी सहित पुलिस मुख्यालय के अधिकारी मौजूद थे। बैठक के बाद अपर मुख्य सचिव आमिर सुबहानी और डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने बताया कि कानून-व्यवस्था को लेकर हुई उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक में कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए। कानून-व्यवस्था के मद्देनजर पुलिस मैनुअल को नए तरीके से बनाने का निर्देश दिया गया है। डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने कहा कि कानून-व्यवस्था को लेकर थाने से लेकर पुलिस मुख्यालय तक प्राथमिकता तय होगी। साथ ही बताया कि बैठक में अनुसंधान को विधि व्यवस्था से अलग करने का निर्णय किया गया। माह में 10 दिन आईजी फील्ड में काम करेंगे। वह अपने- अपने अनुमंडल मुख्यालय में 10 दिनों का कैंप करेंगे। कानून-व्यवस्था को लेकर हुई समीक्षा बैठक के बाद डीजीपी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने सघन गश्ती का निर्देश दिया है। मुख्यमंत्री के निर्देश पर फैसला किया गया है कि पेट्रोलिंग की स्थिति पर डीआईजी और एसपी मॉनिटरिंग करेंगे।
इसके अलावा गश्ती टीमों पर नजर रखने के लिए गश्ती दल को जीपीएस से लैस किया जाएगा, ताकि गश्ती दल पर नजर रखी जाए। वहीं, थानों को सश€त करने के लिए थानेदारों को रेफरेंस कोर्स कराए जाने की बात कही गई है। साथ ही सभी थानों में थाना प्रबंधक तैनात किए जाएंगे। सूबे में पटना और मुजफ्फरपुर जोन में आपराधिक घटनाओं में वृद्धि के मद्देनजर मुख्यमंत्री ने सख्त निर्देश दिया है। पटना और मुजफ्फरपुर जोन में बढ़ते अपराध को लेकर डीजी स्तर के अधिकारी मॉनिटरिंग करेंगे। दोषी पदाधिकारी चिह्नित किए जाएंगे। सही तरीके से काम नहीं करने वाले 20 एसडीपीओ पर कार्रवाई की जाएगी। साथ ही कहा कि लंबित मामलों के लिए डीएसपी की नियुक्ति की जाएगी।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget