100वीं जीत पर फेडरर की नजरे

लंदन
रोजर फेडरर बुधवार को विंबल्डन में 100वीं जीत दर्ज करने के अलावा राफेल नडाल के खिलाफ एक और सेमीफाइनल मुकाबले की नींव रख सकते हैं। पुरुष एकल क्वार्टर फाइनल में  30 साल से अधिक उम्र के पांच खिलाड़ियों ने जगह बनाई है और माना जा रहा है कि खेल के दो सबसे सफल खिलाड़ी फेडरर और नडाल कॅरियर में 40वीं बार यहां आमने-सामने हो  सकते हैं। अगर ऐसा होता है, तो 2008 के बाद यह पहला मौका होगा जब आल इंग्लैंड फ्लब पर ये दोनों एक दूसरे के खिलाफ भिड़ेंगे। नडाल ने 2008 में फेडरर को खिताबी  मुकाबले मे हराया था। इसे टूर्नामेंट के इतिहास का सबसे शानदार फाइनल भी माना जाता है। आठ बार के चैंपियन फेडरर को हालांकि सेमीफाइनल में पहुंचने के लिए जापान के केई   निशिकोरी को हराना होगा, जबकि दो बार के विजेता नडाल का सामना अमेरिका के सैम क्वैरी से होगा। सेमीफाइनल के विजेता की भिड़ंत फाइनल में गत चैंपियन और चार बार के  विजेता नोवाक जोकोविच से हो सकती है। फेडरर 37 बरस की उम्र में 1991 में जिमी कोनर्स के बाद क्वार्टर फाइनल में जगह बनाने वाले सबसे उम्रदराज खिलाड़ी हैं। उन्होंने आल  इंग्लैंड फ्लब में 17वीं और ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंटों में 55वीं बार क्वार्टर फाइनल में जगह बनाई है। निशिकोरी के खिलाफ फेडरर का रिकॉर्ड 7-3 का है। सातवें वरीय निशिकोरी ने पिछले  साल एटीपी फाइनल्स में फेडरर के हराया था। दूसरी तरफ नडाल का दुनिया के 65वें नंबर के खिलाफ क्वैरी के खिलाफ रिकॉर्ड 4-1 है। क्वैरी ने 2017 में दुनिया के तत्कालीन नंबर  एक खिलाड़ी एंडी मरे को हराकर सेमीफाइनल में जगह बनाई थी, लेकिन अंतिम चार के मुकाबले में मारिन सिलिच से हार गए थे। अमेरिका के क्वैरी टूर्नामेंट में अब तक 100 ऐस  लगा चुके हैं और इस दौरान उन्होंने सिर्फ एक बार अपनी सर्विस गंवाई।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget