कांग्रेस कार्य समिति की बैठक 10 को

नई दिल्ली
लोकसभा चुनाव खत्म होने के बाद से ही देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस बिना किसी अध्यक्ष के है, लेकिन सब कुछ ठीक रहा, तो करीब ढाई महीने के बाद उसे नया अध्यक्ष  मिलने वाला है। 10 अगस्त को कांग्रेस कार्य समिति की मीटिंग बुलाई गई है, जिसमें नए अध्यक्ष पर फैसला हो सकता है। देखना दिलचस्प होगा कि अगला कांग्रेस अध्यक्ष कोई  अनुभवी नेता बनेगा या फिर कोई युवा चेहरा। इस बीच, कई दिग्गजों ने खुलकर प्रियंका गांधी को पार्टी की कमान सौंपे जाने की मांग की है। वहीं, मुंबई कांग्रेस अध्यक्ष पद से  इस्तीफा दे चुके मिलिंद देवड़ा ने सचिन पायलट या फिर ज्योतिरादित्य सिंधिया के नाम की वकालत की है। दरअसल, पार्टी के कई दिग्गज नेता अध्यक्ष पद के लिए खुलकर प्रियंका  गांधी की वकालत कर रहे हैं। उनकी दलील है कि गांधी परिवार के बिना पार्टी बिखर सकती है और सिर्फ यही परिवार ही पार्टी में सबको एकजुट रख पाएगा। इन नेताओं के फेहरिस्त  में नया नाम हैं दिग्गज कांग्रेसी कर्ण सिंह।
गांधी परिवार के करीबी और 5 दशकों से ज्यादा वक्त से कांग्रेस से जुड़े हुए कर्ण सिंह ने कहा है कि प्रियंका पार्टी अध्यक्ष के रूप में सबको 'एकजुट करने वाली ताकत' होंगी और  इससे पार्टी कार्यकर्ताओं में उत्साह का संचार होगा। सिंह ने यह भी कहा कि नेतृत्व मुद्दे पर निर्णय न होने से कांग्रेस को 'निश्चित रूप से नुकसान' पहुंचा है। उन्होंने आगाह किया कि  आगे और 'नेतृत्वविहीन' रहना पार्टी के लिए 'गंभीर रूप से हानिकारक' होगा। इससे पहले शशि थरूर भी प्रियंका गांधी को करिश्माई नेता बताते हुए उन्हें कांग्रेस की कमान देने की  पुरजोर वकालत की थी। थरूर के बयान को कैप्टन अमरिंदर सिंह का भी समर्थन मिला, जो पहले ही किसी युवा को पार्टी का नेतृत्व देने की पैरवी कर चुके थे। कांग्रेस कार्य समिति  की अहम बैठक से पहले शशि थरूर ने रविवार को कहा कि इसे एक अंतरिम अध्यक्ष नियुक्त करना चाहिए और फिर शीर्ष नेतृत्व के पदों के लिए आंतरिक चुनाव कराना चाहिए।  यह सभी चिंताओं को दूर कर देगा। थरूर की टिप्पणी पार्टी की इस घोषणा के कुछ घंटों बाद आई है, जिसमें कहा गया था कि कांग्रेस कार्य समिति की कांग्रेस मुख्यालय में 10  अगस्त को बैठक होगी। थरूर ने ऑल इंडिया प्रोफेशनल कांग्रेस की दूसरी वार्षिक बैठक के बाद संवाददाता सम्मेलन में कहा कि जब हमने राहुल गांधी से बात की, उन्होंने कहा  कि  जवाबदेही की एक संस्कृति होनी चाहिए। यदि राहुल गांधी ने यह किया है, तब यह हर किसी के लिए प्रासंगिक है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget