शेअर बाजार मे गिरावट

मुंबई
रिजर्व बैंक के द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक वृद्धि दर के अनुमान को कम किए जाने से शेयर बाजारों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा और बंबई शेयर  बाजार का सेंसेम्स बुधवार को 286 अंक टूटकर 36,690.50 अंक पर बंद हुआ। नीतिगत दर में 0.35 प्रतिशत की बड़ी कटौती के बावजूद बाजार नीचे आया। उतार-चढ़ाव भरे कारोबार  में 30 शेयरों वाला सेंसेम्स 286.35 अंक यानी 0.77 प्रतिशत की गिरावट के साथ 36,690.50 अंक पर बंद हुआ। नेशनल स्टॉक एम्सचेंज का निफ्टी भी 92.75 अंक यानी 0.85 प्रतिशत टूटकर 10,855.50 अंक पर बंद हुआ। इससे पहले, दिन में भारतीय रिजर्व बैंक ने अर्थव्यवस्था को गति देने के लिए नीतिगत दर में 0.35 प्रतिशत की कटौती की। इस  कटौती के बाद रेपो दर नौ साल के न्यूनतम स्तर 5.40 प्रतिशत पर आ गई। यह लगातार चौथा मौका है, जब नीतिगत दर में कटौती की गई है। इसके साथ आरबीआई ने मांग और निवेश में नरमी के कारण चालू वित्त वर्ष के लिए वृद्धि दर के अनुमान को कम कर 6.9 प्रतिशत कर दिया है। इससे पहले, जून में द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा वृद्धि दर 7  प्रतिशत रहने का अनुमान जताया गया था। ब्याज दर से जुड़े ज्यादातर शेयर नुकसान में रहे। बीएसई वाहन, बैंक सूचकांक, वित्त और रीयल्टी सूचकांकों में 2.10 प्रतिशत की   गिरावट आई। सेंसेम्स के शेयरों में महिंद्रा एंड महिंद्रा का प्रदर्शन सबसे खराब रहा। कंपनी का एकीकृत शुद्ध लाभ जून तिमाही में 52.56 प्रतिशत घटकर 894.11 करोड़ रुपए रहने से  शेयर 5.62 प्रतिशत नीचे आ गया। वाहनों की बिक्री कम होने से लाभ प्रभावित हुआ। नुकसान में रहने वाले अन्य शेयरों में टाटा स्टील, टाटा मोटर्स, एसबीआई, वेदांता, एम्सिस बैंक,  आईटीसी, रिलायंस इंडस्ट्रीज, मारुति, एल एंड टी, एचडीएफसी बैंक, एचडीएफसी और कोटक बैंक शामिल हैं। वहीं दूसरी तरफ एचयूएल, एस बैंक, हीरो मोटो कार्प, इंडसइंड बैंक, सन  फार्मा, टेक महिंद्रा और इंफोसिस में 1.95 प्रतिशत तक की तेजी आई। ड्रिप कैपिटल के सह-संस्थापक और सह-मुख्य कार्यपालक अधिकारी पुष्कर मुकेवार ने कहा कि वास्तविक  जीडीपी वृद्धि दर 7 प्रतिशत से घटकर 6.9 प्रतिशत करने से संभवत: अल्पकाल में बाजार धारणा प्रभावित हुई है। इसके अलावा गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों को पूंजी प्रवाह बढ़ने से कर्ज उपलब्धता बढ़ेगी। यह एमएसएमई क्षेत्र और निर्यातकों के लिए अच्छी खबर है। वैश्विक स्तर पर अमेरिका-चीन के बीच व्यापार तनाव से धारणा प्रभावित हुई। एशिया के अन्य  बाजारों में चीन का शंघाई कंपोजिट सूचकांक, दक्षिण कोरिया का कोस्पी और जापान का निक्की नुकसान में रहे। वहीं हांगकांग का हैंग सेंग में तेजी रही। यूरोप के प्रमुख बाजारों में शुरूआती कारोबार में तेजी का रुख रहा।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget