जम्मू कश्मीर को मिली असली आज़ादी

नई दिल्ली
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर के विशेष दर्जे की समाप्ति से जुड़े प्रस्ताव और जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक को संसद के दोनों सदनों से मंजूरी मिलने को ऐतिहासिक  क्षण  करार दिया है। उन्होंने कहा कि अब जम्मू- कश्मीर की जनता वर्षों से कुछ स्वार्थी तत्वों की इमोशनल ब्लैकमेलिंग से मुक्त हो गई है। प्रधानमंत्री ने इसे श्यामा प्रसाद मुखर्जी, सरदार  पटेल और डॉ.आंबेडकर जैसे नेताओं की सच्ची श्रद्धांजलि बताया। उन्होंने हिंदी, अंग्रेजी और उर्दू में ट्वीट किया। प्रधानमंत्री ने गृह मंत्री अमित शाह को इसके लिए खास तौर पर बधाई  दी। साथ ही, उन्होंने सभी दलों का आभार व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, ''संसद में जिस प्रकार विभिन्न पार्टियों ने दलगत राजनीति से ऊपर उठकर और वैचारिक मतभेदों को भुलाकर सार्थक चर्चा की, उसने हमारे संसदीय लोकतंत्र की गरिमा को बढ़ाने का काम किया है। इसके लिए मैं सभी सांसदों, राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को बधाई देता हूं।''  प्रधानमंत्री ने सिलसिलेवार ट्वीट कर बिल पास कराने को ऐतिहासिक और गौरव का क्षण करार दिया। उन्होंने ट्वीट किया, ''ऐतिहासिक क्षण। एकता और अखंडता के लिए सारा देश  एकजुट। जय हिंद! हमारे संसदीय लोकतंत्र के लिए यह एक गौरव का क्षण है, जहां जम्मू-कश्मीर से जुड़े ऐतिहासिक बिल भारी समर्थन से पारित किए गए हैं।'' बिल को जम्मू- कश्मीर के लोगों के हित में बताते हुए पीएम ने लिखा, ''ये कदम जम्मू- कश्मीर और लद्दाख के युवाओं को मुख्यधारा में लाएंगे, साथ ही उन्हें उनके कौशल और प्रतिभा को प्रदर्शित  करने के अनगिनत अवसर प्रदान करेंगे। इससे वहां के इन्फ्रास्ट्रक्चर में सुधार होगा, व्यापार-उद्योग को बढ़ावा मिलेगा, रोजगार के नए अवसर बनेंगे और आपसी दूरियां मिटेंगी।  लद्दाख के लोगों को विशेष रूप से बधाई! मुझे इस बात की बेहद खुशी है कि केंद्र शासित प्रदेश घोषित करने की उनकी दशकों पुरानी मांग आज पूरी हो गई है। इस फैसले से लद्दाख  के विकास को अभूतपूर्व बल मिलेगा। लोगों के जीवन में समृद्धि और खुशहाली आएगी। प्रधानमंत्री मोदी ने बिल को जम्मू-कश्मीर के लोगों के लिए नई सुबह लाने वाली बताते हुए  कहा, ''मैं जम्मू-कश्मीर की बहनों और भाइयों के साहस और जज्बे को सलाम करता हूं। वर्षों तक कुछ स्वार्थी तत्वों ने इमोशनल ब्लैकमेलिंग का काम किया, लोगों को गुमराह किया  और विकास की अनदेखी की। जम्मू-कश्मीर और लद्दाख अब ऐसे लोगों के चंगुल से आजाद है। एक नई सुबह, एक बेहतर कल के लिए तैयार है!'' प्रधानमंत्री मोदी ने एक अन्य ट्वीट  में लिखा कि यह श्यामा प्रसाद मुखर्जी जैसे महान नेताओं को सच्ची श्रद्धांजलि है। उन्होंने लिखा, ''इन विधेयकों का पारित होना देश के कई महान नेताओं को सच्ची श्रद्धांजलि है:  सरदार पटेल, जो देश की एकता के लिए समर्पित थे; डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर, जिनके विचार सर्वविदित हैं; डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी, जिन्होंने भारत की एकता और अखंडता के 
लिए अपना जीवन समर्पित कर दिया।''

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget