अग्रवाल का यू-टर्न

जेट एयरवेज को खरीदने में कोई दिलचस्पी नहीं


मुंबई
खनन क्षेत्र की दिग्गज कंपनी वेदांता रिसोर्सेज के मुखिया अनिल अग्रवाल ने सोमवार को कहा कि उनकी बंद पड़ी एयरलाइन जेट एयरवेज को खरीदने में अब कोई दिलचस्पी नहीं है।  कर्ज में डूबी जेट एयरवेज का मामला दिवाला संहिता के तहत एनसीएलटी (राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण) के समक्ष विचाराधीन है और अग्रवाल की निवेश कंपनी वोल्कन  इंवेस्टमेंट ने जेट एयरवेज को खरीदने के लिए रविवार को रुचि पत्र (ईओआई) जमा किया था।
रविवार को इस बंद पड़ी एयरलाइन के लिए बोली लगाने का आखिरी दिन था। जेट को खरीदने के लिए वोल्कन की तरफ से रुचि पत्र जमा करने के बाद अग्रवाल ने सोमवार को बयान में कहा कि जेट एयरवेज के लिए वोल्कन ने जो रुचि पत्र जमा किया था वह शुरुआती खोजबीन के आधार पर था। आगे की जांच-पड़ताल और अन्य प्राथमिकताओं पर विचार करने के बाद हमने इस दिशा में कदम नहीं बढ़ाने का फैसला किया है। बयान में कहा गया है कि वोल्कन ने जेट एयरवेज के लिए ईओआई इसलिए जमा किया था, क्योंकि वह  कंपनी और उद्योग के लिए कारोबारी परिदृश्य को समझना चाहती थी। इस कदम के बाद अब एयरलाइन की संपत्तियों को खरीदने की दौड़ में सिर्फ दो कंपनियां रह गई हैं। वित्तीय  संकट से जूझ रही जेट एयरवेज ने अप्रैल में परिचालन बंद कर दिया था।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget