कश्मीर में डर का माहौल पैदा कर रही सरकार : कांग्रेस

नई दिल्ली
कांग्रेस ने जम्मू-कश्मीर खासकर घाटी के मौजूदा हालात पर चिंता जताते हुए 'अमरनाथ यात्रा रोकने' और पर्यटकों के वापस लौटने के लिए जारी की अडवाइजरी के फैसले की निंदा  की है। पार्टी ने यह भी ऐलान किया है कि वह इस मुद्दे को संसद के दोनों सदनों में उठाएगी और प्रधानमंत्री मोदी से जवाब की मांग करेगी। कांग्रेस ने भारत सरकार पर 30 साल  बाद कश्मीर में डर का माहौल फैलाने का आरोप लगाया है और कहा है कि इससे 1990 के दशक की यादें ताजा हो गई हैं।

आज तक किसी सरकार ने ऐसी अडवाइजरी जारी नहीं की
कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने शनिवार को प्रेस कांफ्रेंस कर मोदी सरकार को आगाह किया कि वह घाटी में किसी तरह के 'मिसऐडवेंचर की कोशिश' न करे। प्रेस कांफ्रेंस में गुलाम नबी  आजाद, पूर्व गृह मंत्री पी। चिदंबरम, जम्मू-कश्मीर कांग्रेस की प्रभारी अंबिका सोनी, पूर्व केंद्रीय मंत्री आनंद शर्मा और डॉक्टर कर्ण सिंह शामिल थे। कांग्रेस नेता और जम्मू-कश्मीर के  पूर्व मुख्यमंत्री गुलाम नबी आजाद ने कहा कि आज तक किसी भी सरकार ने इस तरह की अडवाइजरी जारी नहीं की। साल 2000 में आतंकी हमलों में 89 तीर्थयात्री और आम  नागरिक मारे गए थे फिर भी अमरनाथ यात्रा नहीं रोकी गई। उन्होंने आरोप लगाया कि अतिरिक्त जवानों की तैनाती और अडवाइजरी के जरिए भारत सरकार डर का माहौल बना रही  है।

बड़े हमलों के बाद भी कभी नहीं रोकी गई अमरनाथ यात्रा : आजाद
आजाद ने कहा कि 'कुछ घटनाएं पिछले एक-दो हफ्तों में हुईं हैं। 10-15 दिन पहले यहां से तकरीबन 25 हजार, कुछ कहते हैं 35 हजार, अतिरिक्त जवानों को तैनात किया गया,  जबकि पुलवामा हमले को छोड़ दें तो इस साल आतंक से जुड़ी सबसे कम घटनाएं हुईं हैं। इस साल सबसे ज्यादा अमरनाथ यात्री तीर्थ पर जा रहे हैं। पर्यटक पहुंच रहे हैं। ऐसे वक्त  में अतिरिक्त जवानों की तैनाती चिंता की बात है। एनडीए 1, एनडीए 2 और यूपीए की सरकारों के दौर में भी जम्मू-कश्मीर में आतंकी हमले हुए, पिछले साल 2017 में अमरनाथ  यात्रियों पर भी हमला हुआ लेकिन कभी भी यात्रा नहीं रोकी गई। 2000 में सबसे बड़े आतंकी हमले हुए थे, 89 यात्री और आम नागरिक मारे गए थे, लेकिन तब भी यात्रा सिर्फ 3-4 दिनों के लिए स्थगित हुई थी।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget