'खरीफ बुवाई ने पकड़ी रफ्तार'

नई दिल्ली
दक्षिण पश्चिम मानसून में काफी हद तक बारिश की कमी की भरपाई हो गई है और देश भर में गर्मियों (खरीफ) में बोई जाने वाली फसलों की बुवाई का काम अच्छी गति से आगे  बढ़ रहा है। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने यह बात कही। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी) ने कुल मिलाकर मानसून के सामान्य रहने का अनुमान व्यक्त किया है। हालांकि  आठ अगस्त तक बारिश सामान्य स्तर से पांच प्रतिशत कम थी। तोमर ने संवाददाताओं से कहा कि मानसून आने में थोड़ी देरी हुई और कुछ चिंता पैदा हुई। अब बारिश की स्थिति  में सुधार हुआ है। बारिश की कमी की काफी भरपाई हो गई है। उन्होंने कहा कि हमें उम्मीद है कि कुल मिलाकर बरसात की स्थिति बेहतर हो जाएगी और खरीफ फसलों के तहत  बुवाई रकबे में कमी को पूरा कर लिया जाएगा। बुवाई का काम अच्छी तरह से प्रगति कर रहा है। महाराष्ट्र और कर्नाटक जैसे कुछ राज्यों में बाढ़ की स्थिति पर मंत्री ने कहा   कि  केंद्र सरकार की स्थिति की बारीकी से नजर है। धान और दलहन जैसी खरीफ फसलों की बुवाई जून में मानसून के आरंभ के साथ होती है और कटाई का काम अक्टूबर से शुरू होता  है। केंद्रीय कृषि मंत्रालय के ताजा बुवाई आंकड़ों के अनुसार, खरीफ की सभी फसलों की बुवाई का कुल रकबा साल भर पहले के 918.70 लाख हेक्टेयर के मुकाबले कम यानी 869.55  लाख हेक्टेयर ही है। कृषि सचिव संजय अग्रवाल ने कहा कि समग्र बुवाई रकबे में जो कमी थी वह पिछले सप्ताह की तुलना में काफी बेहतर हुई है। अब कमी की काफी हद तक  भरपाई हो गई है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget