भारतीय महिला फुटबॉल टीम का लक्ष्य एशिया में रैंकिंग सुधारना : पूर्व कप्तान डालिमा

नई दिल्ली
भारतीय महिला फुटबॉल टीम की पूर्व कप्तान डालिमा छिब्बर का मानना है कि इस समय एशिया में रैंकिंग सुधारना और ज्यादा से ज्यादा प्रतिस्पर्धी मुकाबले खेलना अहम है।  डालिमा को फुटबॉल के प्रदर्शन के बूते कनाडा में पढ़ाई की स्कालरशिप मिली है, जिससे उन्हें पेशेवर फुटबॉल खेलने का मौका मिलेगा। वह इस हफ्ते के अंत में रवाना हो जाएंगी।  भारतीय टीम में खेलने के बारे में उन्होंने कहा कि ब्रेक में मैं वापस आऊंगी, जब भी मौका मिलेगा और राष्ट्रीय टीम के लिए खेलूंगी। इंडियन वुमैन लीग में गोकुलम केरला के लिए  खेलने वाली इस फुटबॉलर ने कहा कि मुझे पढ़ाई के साथ कनाडा में मुझे पूरी दुनिया के अनुभवी खिलाड़ियों के साथ खेलने का मौका मिला है, जिससे मैं वापस आकर टीम के लिए  योगदान करना चाहूंगी।
विदेशी क्लबों से पेशकश के बारे में पूछने पर डालिमा ने कहा कि मुझे पेशकश मिल रही है, लेकिन अभी मैं खुलासा नहीं करना चाहती। अगले साल भारत को अंडर-17 महिला विश्व  कप की मेजबानी करनी है, लेकिन इसके लिए कोई चहल पहल देखने को नहीं मिल रही है। इस बारे में उन्होंने कहा कि हां, अभी ऐसा नहीं है। हो सकता है कि साल के अंत में  ऐसा देखने को मिल सकता है। अब सीनियर भारतीय महिला टीम आगे बढ़ रही है, सब उनके प्रदर्शन की सराहना कर रहे हैं, उन्हें समर्थन मिल रहा है। महिला फुटबॉल अभी आगे  बढ़ रही है। हमें समय देने की जरूरत है। एक महीने पहले सीनियर महिला विश्व कप हुआ, तो उससे क्या सीखने को मिला तो उन्होंने कहा कि इससे हमें महिला फुटबॉल के बारे में  जानने का मौका मिला कि अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर खेल का स्तर क्या है। हमें जानने का मौका मिला कि हमारा स्तर क्या है, हमें क्या करना चाहिए और हम विश्व फुटबॉल स्तर तक  पहुंचने से कितनी दूर हैं। भारतीय महिला टीम के विश्व कप में क्वॉलीफाई करने के संबंध में पूछे गए सवाल के बारे में उन्होंने कहा कि फीफा विश्व कप कप में बारे में मैं अभी  टिप्पणी नहीं करूंगी, लेकिन आने वाले तीन चार वर्षों में आप भारतीय महिला टीम को एशिया की पावरहाउस टीमों में से एक के रूप में देखोगे। अभी मुख्य लक्ष्य एशिया की सर्वश्रेष्ठ टीम में से एक होना है। फीफा विश्व कप में खेलना अभी बहुत दूर का लक्ष्य है, टीम के तौर पर हमें काफी कुछ साबित करना है। अभी एशिया में शीर्ष पर आना मुख्य  लक्ष्य है। उन्होंने कहा कि मुख्य लक्ष्य एशिया में रैंकिंग में सुधार करना है, एएफसी क्वॉलीफायर आने वाले हैं, अगर हम बहुत अच्छा करते हैं तो हमारी रैंकिंग में असर दिखेगा।  फीफा ने अब 32 टीमें कर दी हैं, जिससे एशिया की टीमों को भी ज्यादा मौका मिलेगा। इस साल सैफ महिला चैंपियनशिप में उन्हें मोस्ट वैल्यूएबल प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट चुना गया था।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget