गायत्री प्रजापति के साथ पांच आईएएस पर मनी लांड्रिंग का केस

लखनऊ
उत्तर प्रदेश में खनन घोटाले में सीबीआई जांच के साथ ही अब ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) ने भी कार्रवाई को गति प्रदान की है। प्रवर्तन निदेशालय अब हमीरपुर के अलावा शामली, फतेहपुर, शांबी  व देवरिया में हुए खनन घोटाले के मामलों में जांच करेगी। ईडी ने सीबीआई की एफआईआर को आधार बनाकर सपा सरकार के पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति व पांच आइएएस अधिकारियों  समेत अन्य के खिलाफ प्रिवेंशन ऑफ मनी लांड्रिंग एक्ट (पीएमएसए) के तहत चार केस दर्ज किया है। ईडी हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में पहले से ही पूर्व मंत्री गायत्री के खिलाफ जांच कर रही है। आइएएस बी.चंद्रकला के बाद अब आइएएस अधिकारी अभय सिंह, संतोष कुमार राय, विवेक, देवी शरण उपाध्याय व जीवेश नंदन की संपत्तियां भी ईडी के निशाने पर होंगी। उल्लेखनीय  है कि ईडी ने बीते दिनों हमीरपुर खनन घोटाले के मामले में कोर्ट की अनुमति पर पूर्व मंत्री गायत्री से चार दिन पूछताछ की थी। सीबीआई ने जुलाई में खनन घोटाले में ताबड़तोड़ छापेमारी की  थी।फतेहपुर व देवरिया में भी खनन घोटाले में केस दर्ज किये थे। सीबीआई ने इन केसों में पूर्व मंत्री गायत्री प्रसाद प्रजापति के अलावा फतेहपुर के तत्कालीन डीएम अभय सिंह, आइएएस  अधिकारी जीवेश नंदन, संतोष कुमार, देवीशरण उपाध्याय व तत्कालीन डीएम देवरिया को नामजद किया था। ईडी ने इन दोनों केस की एफआईआर कोपरीक्षण के लिए लिया था और केस दर्ज  करने का अप्रूवल दिल्ली मुख्यालय से मांगा था। सीबीआई कौशांबी व शामली में खनन घोटाले की जांच पहले से कर रही है। ईडी नेसीबीआई के इन दोनों केसों को आधार बनाकर मनी लांड्रिंग के  केस दर्ज किये है। शामली के मामले में पूर्व मंत्री गायत्री के करीबी विकास वर्मा व अमरेंद्र सिंह उर्फ पिंटू समेत अन्य पर केस दर्ज किया गया है। ईडी अब आरोपियों की संपत्तियों का क्योरा खंगालेगी। उत्तर प्रदेश में समाजवादी पार्टी की सरकार में मंत्री रहे गायत्री प्रजापती के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने शिकंजा कस दिया है। 

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget