थानाध्यक्षों के हटाए जाने के विरोध में उतरा एसोसिएशन

पटना
 सरकार के मानकों पर खरा न उतरने वाले थानाध्यक्ष, ओपी प्रभारी एवं सर्किल इंस्पेक्टरों को हटाए जाने के खिलाफ आवाज उठने लगी है। जमादार, दारोगा और इंस्पेक्टरों की यूनियन 'बिहार पुलिस एसोसिएशन' ने पुलिस मुख्यालय के आदेश की मुखालफत शुरू कर दी है। कार्रवाई  को मनमाना करार देते हुए इसे पुलिस की रीढ़ पर  हमला बताया है। एसोसिएशन के अध्यक्ष मृत्युंजय कुमार सिंह का कहना है कि पुलिस मुख्यालय को यह समझना होगा कि जिन जमादार-दारोगा या इंस्पेक्टरों को दंडित किया जा चुका है अथवा जिन पर विभागीय कार्यवाही चल  रही है उसको चलता कौन है? दंड देता कौन है? सवाल खड़ा किया है कि समय सीमा के अंदर विभागीय कार्यवाही पूरी न करने वाले दोषी  अफसरों पर कार्रवाई क्यों नहीं हो रही है। जिस 1994 बैच को दागदार बताया जा रहा है पूरा सुशासन उनके कठिन परिश्रम का प्रतिफल है। विदित हो कि हाल के दिनों में कई ऐसे मामले सामने आए हैं, जिसमें बच्चा चोर की अफवाह उड़ा कर मानसिक रूप से अस्वस्थ लोगों की  पिटाई कर दी गई। जबकि जांच के बाद इस तरह की बात कहीं से भी सामने नहीं आई। डीआईजी के इस आदेश के बाद अब इस तरह की  अफवाह उड़ा कर लोगों के दिमाग में खौफ भरने की कोशिश करने वालों को जेल जाना होगा।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget