मांजे के बयान से गरमाई राजनीति

पटना
 बिहार में विपक्षी महागठबंधन में सब कुछ ठीक नहीं चल रहा। लालू प्रसाद  यादव के जेल में रहने तथा उनके उत्तराधिकारी तेजस्वी यादव  के इन दिनों राजनीति से दूर रहने के कारण राष्ट्रीय जनता दल नेतृत्वविहीन हालत में है। उधर, महागठबंधन के घटक दल हिंदुस्तानी आवाम मोर्चा के अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने बिहार विधानसभा चुनाव अकेले लड़ने की घोषणा कर दी है। इसके साथ यह चर्चा होने लगी है कि क्या मांझी फिर राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन में जा रहे हैं? इसपर राजनीति भी गर्म हो गई है। उनके बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए आरजेडी ने कहा कि महागठबंधन में जिसे रहना है रहें, जिसे जाना है जाएं। जनता दल यूनाइटेड ने कहा है कि मांझी के लिए दरवाजे बंद नहीं हैं। बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री और 'हम' के राष्ट्रीय अध्यक्ष जीतन राम मांझी ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा है कि हर बार उन्हें ठगा जाता है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि जरूरत पड़ी तो उनकी पार्टी आगामी विधानसभा चुनाव अकेली लड़ेगी। मांझी ने कहा कि पहले एनडीए में, फिर महागठबंधन  उन्हें ठगा गया। उन्हें लोकसभा के चुनाव में केवल तीन सीटें दी गईं। साथ ही तीन में से दो सीटों पर कांग्रेस और आरजेडी के प्रत्याशियों को चुनाव लड़ाया गया। इससे उनकी पार्टी में काफी आक्रोश है। पार्टी के अधिकांश सदस्यों का मानना है कि स्वतंत्र पहचान के लिए अकेले ही चुनाव लड़ना चाहिए। उन्होंने कांशी राम की राह पर राजनीति करने की बात कहते हुए आरोप लगाया कि अब महागठबंधन में कोई समन्वय नहीं बचा है। मांझी के इस बयान के बाद बिहार की राजनीति गरमा गई है। इसपर जेडीयू के राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद आरसीपी सिंह ने कहा कि मांझी के लिए दरवाजे बंद नहीं हैं। उन्होंने कहा कि कौन कहां है, क्या कर रहा है, इससे मतलब नहीं, हमारा दरवाजा न 
खुला हुआ है और न ही बंद है। जहां तक महागठबंधन की बात है, उसमें भगदड़ स्वाभाविक है। इस मुद्दे पर जेडीयू के प्रधान महासचिव केसी  त्यागी ने कहा कि जीतन राम मांझी के साथ सबसे बड़ा न्याय नीतीश कुमार ने ही किया। मुसहर जाति के व्यक्ति को मुख्यमंत्री बना नीतीश कुमार ने महात्मा गांधी के सपनों को सकार किया था। केसी त्यागी की वापसी पर उन्होंने कहा कि इसका फैसला पार्टी सुप्रीमो नीतीश कुमार  करेंगे।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget