वित्तीय समस्या से जूझ रही है बीएसएनएल

3000 करोड़ रूपए से अधिक की वसूली पर जोर


नई दिल्ली
नकदी समस्या से जूझ रही सार्वजनिक क्षेत्र की बीएसएनएल ने अपने कंपनी ग्राहकों से बकाए की वसूली के लिए आक्रामक तरीके से कदम उठाने की योजना बनाई है। दूरसंचार  कंपनी अगले दो तीन महीनों में 3,000 करोड़ रुपए से अधिक के बकाए में से बड़ी राशि की वसूली की उम्मीद कर रही है। भारत संचार निगम लि. (बीएसएनएल) यह कदम ऐसे   समय उठा रही है जब कंपनी वित्तीय स्थिति को लेकर खासा दबाव में है और इसके कारण उसे इस साल दूसरी बार कर्मचारियों के वेतन भुगतान में देरी की है। बीएसएनएल ने  कर्मचारियों का जुलाई महीने का वेतन पांच अगस्त को जारी किया था।
बीएसएनएल के चेयरमैन और प्रबंध निदेशक पीके पुरवार ने कहा कि हमारा कंपनी ग्राहकों के ऊपर बकाया है, जो 3,000 करोड़ रुपए से अधिक है। हम इसकी वसूली के लिए   आक्रामक तरीके से कदम उठा रहे हैं...इस दिशा में हमें सफलता भी मिल रही है। पुरवार ने कहा कि पूरी बकाया राशि वसूली की समयसीमा बताना कठिन है, पर बीएसएनएल को  अगले दो-तीन महीनों में उसमें से बड़ी राशि की वसूली की उम्मीद है। कंपनी किराए से भी बढ़ी हुई आय प्राप्त करने की उम्मीद कर रही है। इस साल बीएसएनएल की किराए से  करीब 1,000 करोड़ रुपए की आय पर नजर है। पिछली बार यह 200 करोड़ रुपए थी। इस योजना के तहत मौजूदा इमारतों के अधिक-से-अधिक उपयोग और ज्यादा जगह को पट्टे   पर देने की योजना है। इसके अलावा बीएसएनएल सालाना करीब 200 करोड़ रुपए तक बचाने को लेकर आउटसोर्स किए गए कार्यों को दुरुस्त करने पर भी काम कर रही है। कंपनी  का मासिक आय और खर्च (परिचालन व्यय और वेतन) में 800 करोड़ रुपए का अंतर है। दूरसंचार विभाग पुनरूद्धार पैकेज के रूप में बीएसएनएल और महानगर टेलीफोन निगम लि.  (एमटीएनएल) के लिए राहत योजना तैयार कर रहा है। इस पैकेज में स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति योजना, संपत्ति को बाजार पर चढ़ाने और 4 जी स्पेक्ट्रम का आवंटन शामिल है। इसके  अलावा विभाग दोनों सार्वजनिक उपक्रमों (बीएसएनएल और एमटीएनएल) को पटरी पर लाने के इरादे से संभवत: उनके विलय पर भी काम कर रहा है। बीएसएनएल को 2018-19  में करीब 14,000 करोड़ रुपए के घाटे का अनुमान है। कंपनी को 2017-18 में 7,993 करोड़ रुपए का घाटा हुआ था।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget