ब्च्चों में जागरुकता लाने की शुरुआत

मुंबई
शिक्षा में रचनात्मकता और नवाचार पर बड़े पैमाने पर खास जोर दिए जाने के उद्देश्य से अगस्त्य अंतर्राष्ट्रीय फाऊंडेशन की ओर से वरली के नेहरु सायन्स सेंटर में अनोखे जागरुकता मेले की  शुरुआत की गई। इस प्रदर्शन की शुरुआत में बच्चों ने विभिन्न कार्यशालाओं में हिस्सा लिया, जिनमें कई विश्व स्तरीय साधन शामिल थे। कई महत्वपूर्ण हस्तियों जैसे अमित चंद्रा और अर्चना  चंद्रा, एटीई चंद्रा फाऊंडेशन, शिवप्रसाद खेनेड, डायरे टर, नेहरु सायन्स सेंटर, वरली और रामजी राघवन, संस्थापक और अध्यक्ष, अगस्त्य अंतर्राष्ट्रीय फाऊंडेशन की मौजूदगी में इस पहल की  शुरुआत की गई। टे नोलॉजी को हमारी परंपराओं को मिटाने देने या उसके परिणामों के बारे में चिंता करने की बजाय लोगों को इसे उनके फायदे के लिए इस्तेमाल करने के लिए सक्षम किए जाने  की आवश्यकता है। इसलिए हमारे देश के भविष्य बच्चों को प्रायोगिक शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए कुछ बनाने की गतिविधि फायदेमंद साबित हो सकती है। इसमें थ्रीडी प्रिंटिंग, कोडिंग और  माइक्रोप्रोसेसर्स जैसे कई शुरुआती और बच्चों के अनुकूल साधन शामिल है, जिसके चलते आविष्कार करना आसान हो जाता है। इलके अलावा, जरुरी सुविधाओं और टूल किट्स से सज्ज दो  बनाओ बस के साथ जिज्ञासा मेले बच्चों को उनकी कल्पनाओं को एक प्रारुप में  तैयार करने में मददगार साबित होंगे। दो प्रशिक्षित शिक्षक छात्रों को सिखाएंगे और मदद करेंगे और प्रत्येक  बनाओ बस बच्चों को 7 सत्रों में संकल्पना से लेकर प्रारुप तैयार करने तक मार्गदर्शन करेगी

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget