आतंकवाद के खिलाफ सरकार की बड़ी जीत

नई दिल्ली
आतंकवाद के खिलाफ लगाम लगाने की कोशिशों में सरकार की बड़ी जीत हुई है। लोकसभा में पास होने के बाद राज्यसभा में यूएपीए संशोधन बिल पास हो गया है। पक्ष में 147  और विपक्ष में 42 वोट पड़े। इस बिल में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को और शक्तिशाली बनाए जाने का प्रावधान है। बिल पर चर्चा का जवाब देते हुए अमित शाह ने कांग्रेस पर  निशाना साधते हुए कहा कि निजी स्वार्थ के लिए कानून के दुरुपयोग का कांग्रेसी इतिहास सभी जानते हैं। उन्होंने कहा कि अभी तक कमजोर कानून की वजह से देशद्रोहियों को सजा  नहीं मिली। उन्होंने कहा कि कांग्रेस इसके दुरुपयोग की बात नहीं करे, क्योंकि आपातकाल में क्या किया गया? जरा अपना अतीत देख लीजिए। उन्होंने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह  की दलीलों पर निशाना साधते हुए कि वह अभी-अभी चुनाव हारकर आए हैं, तो उनका गुस्सा स्वाभाविक है। उन्होंने कहा कि समझौता एक्सप्रेस में आरोपी पकड़े गए, फिर उन्हें छोड़  दिया गया। धर्म विशेष और नकली मामला बनाकर एक धर्म विशेष के लोगों को टार्गेट करके पकड़ा गया, क्योंकि चुनाव नजदीक था। दरअसल, इससे पहले दिग्विजय सिंह ने सरकार  की नीयत पर शक जाहिर करते हुए कहा था कि जब से आपकी सरकार आई है, तब से एनआईए के काम में फर्क हो गया है। तीन फैसले में अपराधी बरी हुए हैं- समझौता  एक्सप्रेस, मक्का-मस्जिद, अजमेर शरीफ केसों में। एनआईए ने इसके खिलाफ अपील क्यों नहीं की? जहां अभियोजन और बचाव पक्ष एक हो जाएगा तो न्याय कैसे उम्मीद करें?  आपने एक धर्म के खिलाफ माहौल बनाया है कि ये आतंकवाद से जुड़े हैं। आज इस समय देश में विश्वास की कमी है, क्योंकि आपकी सोच विभाजित है? आप हिन्दू और मुसलमान  में भेद पैदा करते हैं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget