Latest Post

Barley Water
बढ़ते वजन से छुटकारा पाने के लएि हम कई तरह के उपाय ट्राई करते हैं, लेकिन फिर भी कई बार वेटलॉस थैरेपी काम नहीं करती है। तो आसानी से वजन कम नहीं हो पाता है। आज हम आपको आसान तरीका बता रहे हैं जसिसे आप आसानी ये वेटलॉस कर सकते हैं। इसके लएि आपको रोजाना जौ का पानी पीना होगा। जी हां, जौ का पानी एक हेल्दी ड्रिंक है, जो जौ से बनता है। जौ एक अनाज है और इससे तैयार पानी कई तरह के सेहत लाभ से पूर्ण होता है, साथ ही वजन कम करने में भी मदद करता है।


जौ में मौजूद पोषक तत्व

जौ में विटामिन बी-कॉम्प्लेक्स, आयरन, कैल्शियम, मैग्नीशियम, मैगनीज, सेलेनियम, जिंक, कॉपर, प्रोटीन, अमीनो एसिड, डायट्री फाइबर्स और कई तरह के एंटी-ऑक्सीडेंट पाए जाते हैं। जौ को आप प्रत्येक दिन अपने डाइट में शामिल कर सकते हैं। शारीरिक समस्याओं से बचने के लिए जौ का पानी एक हेल्दी पेय पदार्थ होता है।

कैसे तैयार करें जौ का पानी

जौ का पानी बनाने के लिए थोड़ी सी मात्रा (दो बड़े चम्मच) में जौ लें। इसे साफ कर लें। अब इसे करीब एक घंटे तक एक से दो कप पानी में भिगोकर छोड़ दें। जौ के साथ ही इस पानी को धीमी आंच पर उबाल लें। 15-20 मिनट उबालने के बाद गैस बंद कर दें। इस पानी को ठंडा करके दिनभर में एक से दो बार पिएं। आप छिलके या बिना छिलके वाले जौ ले सकते हैं।

वजन कम करे जौ का पानी
अगर आपका वजन बढ़ रहा है, तो जौ का पानी पीना शुरू कर दें। थोड़ा सा जौ उबालें। तब तक उबालें, जब तक कि वह नर्म न हो जाए। अब, जौ को निचोड़ लें और पानी को अच्छी तरह से छान लें। यह फाइबर का अच्छा स्रोत है। इसमें कैलोरी भी काफी कम होती है।

जौ का पानी पीने के सेहत लाभ
इसमें मौजूद बीटा-ग्लूटेन शरीर से जहरीले पदार्थों को मल द्वारा से बाहर निकालने में मदद करता है। बवासीर से बचाता है। कब्ज नहीं होने देता और आंतों को साफ रखता है, जिससे पेट के कैंसर की संभावना कम हो जाती है।
मूत्र से जुड़ी कोई समस्या है तो जौ का पानी पीना फायदेमंद होगा। इसके अलावा किडनी से जुड़ी ज्यादातर समस्याओं में जौ का पानी बहुत कारगर होता है।

Anjir
अंजीर एक ऐसा फल है जो आकार में छोटा होता है जिसके अंदर अनगिनत मात्रा में बीज होते हैं। इसमें फाइबर, पोटैशियम, कैल्शियम और मैग्नीशियम जैसे कई पोषक तत्व पाए जाते हैं। कई लोग अक्सर सोचते हैं कि गर्मियों में अंजीर खाना चाहएि या नहीं। आइए जानते है इसके खाने के फायदे। अगर आपको पाचन की समस्या है तो आपके लिए अंजीर रामबाण की तरह काम करेगा। अंजीर पाचन से जुड़ी सभी समस्याओं को जड़ से खत्म करने की क्षमता रखता है। कई लोग इसे दूध में भिगो कर भी खाते हैं। इसके अलावा सूखे अंजीर को रातभर पानी में भिगोकर सुबह खाया जा सकता है। इससे कोई नुकसान नहीं होता है।


हाई ब्लड प्रेशर को करें मैंटेन
अंजीर ब्लड प्रेशर को मेंटेन रखने में भी मदद करता है। गर्मियों में कई लोगों को ब्लड प्रेशर की शिकायत होती है उनके लिए अंजीर का सेवन बेहद फायदेमंद होता है। खास तौर पर हाई ब्लड प्रेशर वालों के लिए अंजीर खाना बेहद लाभदायक होता है।

हड्डियां रहती है मजबूत
हड्डियां मजबूत बनाना चाहते हैं तो नियमित तौर पर आपको अपने डायट में अंजीर को शामिल करना चाहिए। इसमें कैल्शियम की मात्रा पाई जाती है जो हड्डियों और दातों के स्वास्थ्य के लिए काफी फायदेमंद होती है।

नर्वस सिस्टम को रखें सही
अंजीर सीधा हमारे नर्वस सिस्टम में अपना प्रभाव डालता है। रिसर्च के मुताबिक नर्वस सिस्टम पर इसका सिडेटिव हिप्नोटिक एक्शन होता है जिससे एंग्जाइटी, माइग्रेन की समस्या और इनसोमनिया की बीमारी से छुटकारा मिलता है।

कब्ज से दलिाए राहत
अंजीर के जूस में पाया जानने वाला लैक्सेटिव गुण कॉन्सटीपेशन की समस्या से भी राहत दिलाता है। इसमें हाई मात्रा में फाइबर और लो मात्रा में फैट पाया जाता है। एक्सपर्ट्स के मुताबिक तीन हफ्तों तक लगातार 12 ग्राम प्रति किलोग्राम अंजीर के पेस्ट का सेवन करने से कब्ज की समस्या से राहत मिलती है।

अल्जाइमर को रखें दूर
अंजीर जूस में काफी मात्रा में एंटीऑक्सीडेंट, फाइबर और विटामिन पाया जाता है साथ ही जीरो कॉलेस्ट्रॉल पाया जाता है। यह उम्र के साथ आने वाली अल्जाइमर की बीमारी से भी राहत दिलाता है।

Kesar
केसर को मसालों का राजा भी कहा जाता है। केसर में डेढ़ सौ से भी ज्यादा ऐसे औषधीय तत्व पाए जाते हैं जो हमारे शरीर को पूर्ण रुप से स्वस्थ रखने में सहायक होती है। आयुर्वेद के मुताबिक, कई छोटी-छोटी बिमारी हैं, जिन्हें केसर के उपयोग से ठीक किया जा सकता है। वैसे तो आयुर्वेद में केसर के अनेक गुण बताए गए हैं। बता दें की केसर में कई ऐसे औषधीय तत्व मिलते हैं, जो की हमारे शरीर को पूर्ण रूप से स्वस्थ रखने में मददगार होते हैं। इसके अलावा केसर खाद्य पदार्थ और पेय पदार्थ (दूध) को रंगीन और


चेहरे का रंग निखारे केसर त्वचा को खूबसूरत बनाने का काम करता है। इसके इस्तेमाल से फेस पर निखार आ जाता है और रंग भी गोरा होने लगता है। चेहरे की सुंदरता को बढ़ाने के लिए नारियल के तेल या देसी घी संग केसर को पीसकर फेस पर लगाया जाता है। पेट दर्द में देता है आराम पेट दर्द में भी राहत का काम करता है केसर। पांच ग्राम भुनी हींग, पांच ग्राम केसर, दो ग्राम कपूर, पच्चीस ग्राम भुना जीरा, पांच ग्राम काला नमक, पांच ग्राम सेंधा नमक, सौ ग्राम छोटी हरड़, पच्चीस ग्राम वायविडंग के बीज, पच्चीस ग्राम अजवाइन को एक साथ पीसकर इस चूर्ण के रूप में बना कर रख दे। जब भी पेट दर्द हो तो इस चूर्ण में से आधा चम्मच गर्म पानी के साथ सेवन करें, पेट दर्द में राहत मिलेगी। नर्वस सिस्टम को बनाए बेहतर सिर और नर्वस सिस्टम के लिए केसर अत्यंत फायदेमंद है। इसके उपयोग से पैरालिसिस, फेशियल पैरालिसिस जैसे मस्तिष्क संबंधी रोग, डायबिटीज के वजह से होने वाली समस्याएं, निरंतर बने रहने वाला सिरदर्द, हाथ-पैर की सुन्नता आदि में दूध, चीनी और घी के साथ केसर का उपयोग करने से फायदा होता है। कैंसर के खतरे को भी रोका केसर पर हुए शोध के मुताबिक, केसर से कैंसर के खतरे को भी रोका जा सकता है। केसर में क्रोसिन नामक तत्व पाया जाता है।

जोड़ों के दर्द और सूजन से मिले राहत
हल्दी के तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण पाए जाते हैं। ऐसे में जोड़ों और मसल्स में दर्द के कारण होने वाली सूजन पर इस तेल से मालिश करने पर बहुत राहत मिलती है।

हृदय रखें स्वस्थ
आप सभी को बता दें कि हृदय रोगियों के लिए हल्दी तेल बहुत फायदेमंद है। जी दरअसल इस तेल में खाना बनाकर खाने से शरीर में ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है और मेटाबॉल्जिम भी बूस्ट होता है। इसी के साथ ही हार्ट अटैक का खतरा कम होता है और हृदय स्वस्थ रहता है।

इम्यून सिस्टम करें बूस्ट
हल्दी तेल में एंटी-माइक्रोबियल, एंटी-बैक्टीरियल और एंटी-फंगल गुण मिलते हैं जो इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने में मदद करते हैं। इसी के साथ इससे शरीर को रोगों का खतरा बहुत कम होता हैं।

दांतो को रखें स्वस्थ
हल्दी तेल में एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण मौजूद होते हैं जो दांतों से जुड़ी समस्याओं को ठीक करने में मदद करते हैं। इसी के साथ मसूड़ों में सूजन होने पर टूथपेस्ट में 1-2 बूंदें हल्दी तेल की मिक्स करके 1-2 मिनट तक ब्रश करें। इससे राहत मिलती है।

डेंड्रफ से छुटकारा
रूसी यानी डैंड्रफ से छुटकारा दिलाने में भी कच्ची हल्दी का तेल काफी सहायक है। आप नारियल तेल में हल्दी का तेल मिलाकर अगर लगाते हैं तो रूसी की समस्या से निजात प ा सकते है।

Bathua
बथुआ के साग में कई स्वास्थय लाभ होते है इसमें पाया जाने वाले पोषक तत्वों में विटामिन ए, आयरन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, फाइबर, विटामिन सी, फास्फोरस और पोटैशियम जैसे तत्व भी होते हैं जो इस साग को और हेल्दी और पौष्टिक बनाते है इसके अलावा इसका टेस्ट भी काफी अच्छा होता है। कई स्वास्थय समस्याओ में इसके सेवन की सलाह दी जाती है इसके सेवन से पेट, यूरीनरी ट्रैक्ट से जुड़ी परेशानियों से आराम मिलता है। इस हरी पत्तेदार सब्ज़ी में कई मिनरल्स होते हैं। आइये इसके अन्य लाभ के बारे में जाने...
दांतो की समस्या से राहत
ओरल केयर खासकर दांतों के दर्द से राहत पाने के लिए बथुए का सेवन अच्छा माना जाता है। इसके, बीज़ों का पाउडर दंतमंजन की तरह इस्तेमाल किया जाता रहा है ।जब, दांतो मे दर्द या मसूड़ों में सूजन हो तो यह नुस्खा आज़माया जा सकता है। इसी तरह बथुआ के पत्तों को पानी के साथ उबाल कर इससे गरारे करने से भी आराम मिलता है।

कब्ज का अचूक उपाय
जिन लोगों को ख़राब डायजेशन या लाइफस्टाइल की वजह से कब्ज़ की परेशानी होती है। उन्हें बथुआ ज़रूर खाना चाहिए। इससे, कॉन्स्टिपेशन से राहत मिलती है। इससे, एसिडिटी, लो एपेटाइट यानि भूख ना लगने की परेशानी, डकारें और गैस जैसी परेशानियों से भी आराम मिलता है।

खून साफ करे
बथुए को 4-5 नीम की पत्तियों के रस के साथ खाया जाए तो खून अंदर से शुद्ध हो जाता है। साथ ही ब्लड सर्कुलेशन भी ठीक रहता है।

खत्म करता है कीड़े
बच्चों को कुछ दिनों तक लगातार बथुआ खिलाया जाए तो उनके पेट के कीड़े मर जाते हैं। बथुआ पेट दर्द में भी फायदेमंद है।

चर्म रोग दूर करे
बथुए को उबालकर इसका रस पीने और सब्जी बनाकर खाने से चर्म रोग जैसे सफेद दाग, फोड़े-फुंसी, खुजली में भी आराम मिलता है। इसके अलावा बथुए के पत्तों को पीसकर इसका रस निकालें। अब 2 कप रस में आधा कप तिल का तेल मिलाएं और इसे धीमी आंच पर पकाएं। इसके पानी को पिएं।

Dhoni
नई दिल्ली
बीसीसीआई के द्वारा काफी मशक्कत के बाद इस साल आईपीएल का आयोजन संभव हो पाया है। इस बार कोविड-19 महामारी के चलते आईपीएल युनाइटेड अरब अमीरात (यूएई) में खेला जाना है। यूएई रवाना होने से पहले आईपीएल फ्रेंचाइजी टीम चेन्नई सुपर किंग्स (सीएसके) के खिलाड़ी एक सप्ताह की ट्रेनिंग के लिए चेन्नई में जुटेंगे। वो ऐसा करने वाली इकलौती टीम है। फ्रेंचाइजी ने खिलाड़ियों के लिए एक खास चार्टर्ड प्लेन का इंतजाम किया है जिससे वो चेन्नई पहुंच सकें। इस कड़ी में उपकप्तान सुरेश रैना, दीपक चाहर, पीयूष चावला और कर्ण शर्मा चेन्नई के लिए रवाना हुए। एयरपोर्ट पर रैना और उनके साथी क्रिकेटरों ने काफी मस्ती की जिसका वीडियो भारतीय क्रिकेट टीम के ऑफिशियल इंस्टाग्राम पर शेयर किया गया है। कप्तान महेंद्र सिंह धोनी चार्टर्ड प्लेन से चेन्नई पहुंचेंगे। सीएसके के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (सीईओ) के विश्वनाथन ने बताया कि सभी खिलाड़ियों को कोरोना वायरस के तीन टेस्ट से गुजरना होगा और अगर वे इसमें नेगेटिव पाए गए तभी उन्हें 21 अगस्त को दुबई के लिए उड़ान भरने की इजाजत मिलेगी। खिलाड़ियों को कोरोना वायरस टेस्ट में नेगेटिव आने के बाद ही चेन्नई में उतरने की अनुमति मिलेगी। विश्वनाथन ने कहा कि खिलाड़ी शुक्रवार यहां पहुंचेंगे और 15 अगस्त से 21 अगस्त तक उनका ट्रेनिंग कैंप चलेगा। इसके बाद वे 21 अगस्त को दुबई के लिए रवाना होंगे। टीम अगस्त के दूसरे हफ्ते में यूएई पहुंचना चाहती थी लेकिन बीसीसीआई ने टीमों को 20 अगस्त के बाद ही बेस छोड़ने को कहा है।

novak djokovic
बेलग्रेड
दुनिया के नंबर एक टेनिस खिलाड़ी सर्बिया के नोवाक जोकोविक ने कहा कि वह यूएस ओपन ग्रैंडस्लैम टूर्नामेंट में भाग लेंगे। जोकोविक ने शुरुआत में यूएस ओपन टेनिस संघ के कुछ कदमों की आलोचना की थी जिसमें खिलाड़ियों की टीम की संख्या में कटौती करना शामिल था, ताकि कोरोना वायरस संक्रमण का खतरा नहीं हो। जोकोविक ने कहा कि मैं इस बात की पुष्टि कर खुश हूं कि मैं सिनसिनाटी और यूएस ओपन में हिस्सा लूंगा। कई तरह की चुनौतियों और बाधाओं को देखते हुए यह फैसला लेना आसान नहीं था, लेकिन दोबारा प्रतिस्पर्धा करने की बात ने मुझे काफी उत्साहित कर दिया। आप को बता दें कि यूएस ओपन 31 अगस्त से दर्शकों के बिना खेला जाएगा। रोजर फेडरर और राफेल नडाल इस साल टूर्नामेंट में भाग नहीं ले रहे हैं। इससे पहले कहा जा रहा था कि जोकोविक इस टूर्नामेंट में हिस्सा नहीं लेंगे, क्योंकि हाल ही में उनको कोरोना पॉजिटिव पाया गया था।

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget