Latest Post

वायुसेना प्रमुख भदौरिया की कड़ी चेतावनी


जोधपुर

पूर्वी लद्दाख में एलएसी पर चीन के साथ जारी गतिरोध के मसले पर वायुसेना प्रमुख आरकेएस भदौरिया ने शनिवार को जोधपुर एसरबेस से बड़ी चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि एलएसी पर यदि उन्होंने यदि कोई भी उकसावे वाली कार्रवाई की तो हम भी चुप नहीं बैठेंगे। भारतीय वायुसेना दुश्मन को उसकी हिमाकत का मुंहतोड़ जवाब देगी। राफेल लड़ाकू विमानों की आगे भी खरीद होगी या नहीं इस मसले पर भी वायुसेना प्रमुख ने बड़ा संकेत दिया। उन्होंने कहा कि 114 मल्टीरोल लड़ाकू विमानों की खरीद की हमारी परियोजना का राफेल एक गंभीर दावेदार है। 

आयोजित किए जा रहे राफेल ट्रेनिंग बैच 

एयर चीफ मार्शल भदौरिया ने कहा कि भारत को अभी तक आठ राफेल लड़ाकू विमान मिल चुके हैं, जबकि तीन राफेल जल्द आने हैं। अगले महीनों में भी राफेल विमानों के आने का सिलसिला जारी रहेगा। भारतीय पायलटों के लिए राफेल ट्रेनिंग बैच भी आयोजित किए जा रहे हैं। इसके तहत तीन बैच फ्रांस में आयोजित हो रहे हैं, वहीं कुछ भारत में आयोजित हो रहे हैं। उम्मीद है कि अगले साल तक राफेल टास्क पूरा हो जाएगा। 

5th जनरेशन विमानों पर हो रहा काम

एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने आगे कहा कि भारतीय वायु सेना किसी भी चुनौती से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार है। हमने उन्नत मल्टीरोल लड़ाकू विमानों की परियोजना के तहत DRDO के साथ पांचवीं पीढ़ी के लड़ाकू विमानों के निर्माण के कार्यक्रम की शुरुआत की है। इस परियोजना में सभी अत्याधुनिक तकनीकों को शामिल करना शामिल है। हम इसमें छठी पीढ़ी के लड़ाकू विमानों की क्षमताओं को भी जोड़ना चाहते हैं। हालांकि पहले हमारा फोकस पांचवीं पीढ़ी के उन्नत लड़ाकू विमानों पर ही है। 


PM बोले- LAC से LOC तक सशक्त भारत के अवतार को देख रही है दुनिया

modi

कोलकाता

स्वतंत्रता सेनानी नेताजी सुभाष चंद्र बोस की जयंती पर कोलकाता के विक्टोरिया मेमोरियल में हुए ‘पराक्रम दिवस’ कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि मैं आज नेताजी सुभाष चंद्र बोस के चरणों में शीश झुकाता हूं, उन्हें नमन करता हूं। नमन करता हूं, उस मां को जिन्होंने नेताजी को जन्म दिया। पीएम मोदी ने कहा कि आज अगर नेताजी देखते कि उनका भारत इतनी बड़ी महामारी से इतनी ताकत के साथ लड़ा है। आज उनका भारत वैक्सीन जैसे आधुनिक वैज्ञानिक समाधान खुद तैयार कर रहा है, तो वो क्या सोचते, जब वो देखते कि भारत वैक्सीन देकर दुनिया के दूसरे देशों की मदद भी कर रहा है तो उनको कितना गर्व होता। पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि जिस सशक्त भारत की उन्होंने (सुभाष चंद्र बोस) कल्पना की थी। आज LAC से लेकर LOC तक भारत का यही अवतार दुनिया देख रही है। जहां कहीं से भी भारत के संप्रभुता को चुनौती देने की कोशिश की गई, भारत आज मुंहतोड़ जवाब दे रहा है।

कोलकाता में आना मेरे लिए बहुत भावुक करने वाला पल

पीएम मोदी ने कहा कि आज कोलकाता में आना मेरे लिए बहुत भावुक करने वाला पल है। बचपन से जब भी ये नाम सुना- नेताजी सुभाष चंद्र बोस मैं किसी भी स्थिति में रहा, ये नाम कान में पड़ते ही एक नई ऊर्जा से भर गया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज के ही दिन मां भारती की गोद में उस वीर सपूत ने जन्म लिया था, जिसने आज़ाद भारत के सपने को नई दिशा दी थी। पीएम मोदी ने कहा कि हम सब का कर्तव्य है कि नेताजी के योगदान को पीढ़ी दर पीढ़ी याद किया जाए। 


parade

नई दिल्ली

दुनिया के सबसे आधुनिक लड़ाकू विमानों में शुमार राफेल जेट और बांग्लादेश की सैन्य टुकड़ी इस बार राजपथ पर गणतंत्र दिवस परेड समारोह के सबसे मुख्य आकर्षण होंगे। सैन्य व अ‌र्द्धसैनिक बलों की 36 बैंड टुकड़ियों की देशभक्ति से भरी धुनें सैन्य टुकड़ियों के सलामी मार्च में जोश भरेंगी। हालांकि, कोरोना महामारी को देखते हुए गणतंत्र दिवस समारोह के सबसे ज्यादा रोमांचक मोटरसाइकिल करतब शो का आयोजन इस बार नहीं होगा।

इस बार गणतंत्र दिवस परेड का नेतृत्व लेफ्टिनेंट जनरल वीके मिश्रा करेंगे और इस दौरान तीनों सेनाओं के साथ अ‌र्द्धसैनिक बलों के 18 दस्ते सलामी मार्च में हिस्सा लेंगे। इसमें सेना का एक घुड़सवार दस्ता और बीएसएफ का ऊंट दस्ता भी शामिल होगा। एनसीसी और एनएसएस के युवाओं की टुकड़ी भी इसमें रहेगी।

कोरोना के कारण परेड की लंबाई छोटी रहेगी और सभी सलामी मार्च विजय चौक से शुरू होकर लालकिले के बजाय नेशनल स्टेडियम तक ही जाएंगे।

राजपथ पर परेड की शुरुआत बांग्लादेश की तीनों सेनाओं के संयुक्त दस्ते और उनके मिलिट्री बैंड की सलामी से शुरू होगी। इसमें सात अधिकारियों समेत 122 सैनिक होंगे।

बांग्लादेश की सैन्य टुकड़ी का नेतृत्व कर रहे कर्नल मोहतशिम चौधरी ने एक प्रेस कांफ्रेंस के दौरान कहा कि यह उनके देश के लिए गौरव की बात है कि भारत के गणतंत्र दिवस परेड में शामिल होने का मौका मिला है। भारत के साथ यह जुड़ाव इसलिए भी विशेष है कि बांग्लादेश की सेना अपने स्वतंत्रता संग्राम में भारतीय सेनाओं की अविस्मरणीय भूमिका के लिए हमेशा शुक्रगुजार है। भारत के सैन्य पराक्रम की झलक दिखाने के लिए सेनाओं के आधुनिक हथियारों की झांकी इस बार भी होगी। इसमें भीष्म टी-90 टैंक, टी-72 टैंक, ब्रह्मोस सुपरसोनिक मिसाइल, पिनाका राकेट लांचर से लेकर तमाम दूसरे हथियार शामिल होंगे।

परमवीर चक्र विजेता पहले की तरह परेड का हिस्सा रहेंगे, मगर कोरोना के कारण इस बार पूर्व सैनिकों का दस्ता शामिल नहीं होगा। कोरोना के चलते ही इस दफा केवल 25,000 लोगों को ही परेड देखने के लिए आमंत्रित किया गया है। 


Joe Biden

वॉशिंगटन

अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के प्रशासन ने कहा कि वह अफगान-तालिबान समझौते की समीक्षा करेगा जिससे यह आकलन किया जा सके कि आतंकी संगठन अफगान शांति समझौते के अनुरूप हिंसा में कमी कर रहा है या नहीं। एमिली हॉर्न ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार जेक सुलिवन ने अपने अफगान समकक्ष हमदुल्ला मोहिब से फोन पर बातचीत के दौरान यह रेखांकित किया कि अमेरिका एक मजबूत और क्षेत्रीय कूटनीतिक प्रयास के साथ शांति प्रक्रिया का समर्थन करेगा, ‘‘जिसका उद्देश्य दोनों पक्षों को एक टिकाऊ और उचित राजनीतिक समाधान और स्थायी युद्ध विराम हासिल करने में मदद करना होगा।” अफगान में हिंसा को कम करने और अफगान सरकार तथा अन्य हितधारकों के साथ सार्थक वार्ता में शामिल होने, आतंकवादी समूहों के साथ संबंधों में कटौती करने के लिए अपनी प्रतिबद्धताओं पर तालिबान कायम है या नहीं।” अमेरिका के पूर्व राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के प्रशासन ने पिछले फरवरी में दोहा में तालिबान के साथ शांति समझौते पर हस्ताक्षर किए थे। 

इस समझौते के तहत विद्रोही समूह से सुरक्षा की गारंटी के बदले अफगानिस्तान से अमेरिकी सैनिकों की वापसी की योजना तैयार की गई है। समझौते के अनुसार अमेरिका को 14 महीने के अंदर अपने 12000 सैनिकों को अफगानिस्तान से वापस बुलाना था। वहां अब 2500 अमेरिकी सैनिक ही मौजूद हैं।


आज भारत-चीन के बीच कमांडर स्तरीय बैठक

indo china flags

नई दिल्ली 

भारत और चीन के बीच कमांडर स्तर की 9वें राउंड की वार्ता आज होगी। यह बैठक भारत में चुशुल सेक्टर के दूसरी ओर स्थित मोल्डो में की जाएगी। बैठक का लक्ष्य पूर्वी लद्दाख में नौ महीनों से जारी तनाव का समाधान निकालना है। बैठक में विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि के भी शामिल होने की संभावना है। एक अधिकारी ने शनिवार को इसकी जानकारी दी।

वरिष्ठ अधिकारियों के अनुसार, 9वें दौर की वार्ता काफी महत्वपूर्ण है। उम्मीद जताई जा रही है कि इस वार्ता में दोनों पक्षों के बीच एक लिखित समझौता हो सकता है। पिछली कुछ बैठकों की तरह विदेश मंत्रालय के प्रतिनिधि भी इस बैठक का हिस्सा होंगे। दोनों पक्षों के बीच आखिरी सैन्य बैठक छह नवंबर को हुई थी। 

इससे पहले, 18 दिसंबर, 2020 को विदेश मंत्रालय स्तर की वार्ता में दोनों देशों ने कहा था कि वे वास्तविक नियंत्रण रेखा के साथ सभी तनाव वाले स्थानों से सैनिकों की वापसी सुनिश्चित करने की दिशा में काम जारी रखने को तैयार हैं। उसी वक्त नौवें दौर की वार्ता को लेकर सहमति बनी थी। 6 नवंबर 2020 को वरिष्ठ कमांडरों की आयोजित 8वें दौर की बैठक को लेकर दोनों पक्षों ने कहा था कि इस बैठक में जमीन पर स्थिरता सुनिश्चित करने में मदद मिली। आठवें दौर की इस बातचीत के दौरान चीन की पीएलए ने कहा था कि वे अपने फ्रंटलाइन सैनिकों को संयम बरतने और किसी भी गलतफहमी से बचने के लिए सुनिश्चित करेंगे। 30 अगस्त, 2020 को भारत ने पैगोंग झील के दक्षिणी तट के पहाड़ी इलाके जैसे रेचिन ला, रेजांग ला, मुकपारी आदि पर कब्जा हासिल कर लिया था।

एलएएसी पर सौहार्दपूर्ण समाधान की उम्मीद 

इस माह के शुरुआत में आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे ने कहा था कि सेना वास्तविक नियंत्रण रेखा के पास जारी विवाद के लिए सौहार्दपूर्ण समाधान की उम्मीद है। उन्होंने यह भी कहा कि हम अपनी जमीन के लिए तैयार हैं चाहे देश के हित और लक्ष्य साधने में कितना भी समय लगे।   

चीन औ भारत ने तनाव के चलते सीमाओं पर भारी संख्या में सैन्य बल, तोपों और हथियारों को तैनात किया है। सीमा पर कुछ इलाकों में तापमान शून्य से 30 डिग्री सेल्सियस नीचे जा चुका है, इसके बावजूद सैन्य बल की संख्या में कमी नहीं आई है। सर्दियों के दौरान सीमा पर शांति बनी रही, लेकिन तनाव कम नहीं हुआ है।


मुंबइ

दहिसर पुलिस ने नकली सोना दिखाकर ज्वेलर्स से ठगी करनेवाले गिरोह का पर्दाफाश करते हुए चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गए आरोपियों में तीन महिला और एक पुरुष शामिल हैं। आरोपी महिला बुरखा पहनकर आती थी और नकली सोना दिखाकर उसे गिरवी रख पैसे लेकर फरार हो जाती थी। इस गिरोह का खुलासा तब हुआ जब एक ज्वेलरी शॉप के मालिक ने इस मामले मं एफआईआर दर्ज करवाई। 

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक, 20 जनवरी 2021 को महेंद्र बाफना ने दहिसर पुलिस थाने में शिकायत दर्ज करवाई थी कि उनकी दुकान पर एक महिला बुरखा पहनकर पहुंची, उसने सोने की चेन दिखाई और कहा कि वह चेन गिरवी रखनी है। हालांकि, गिरवी रखने के लिए ज्वेलरी के मालिक ने बिल की मांग की। तभी उसने बहाना बताया कि वह चेन उसे गिफ्ट में मिली है इसलिए उसका बिल नहीं है। ज्वेलरी शॉप का मालिक भी लालच में आ गया और उसने कम पैसे में चेन गिरवी रख ली। लेकिन जब उसने चेन को चेक किया तो पता चला कि वह नकली है सिर्फ उसपर सोने का पानी चढ़ाया गया है। इसके बाद उन्होंने मामले की शिकायत दहिसर पुलिस से की। पुलिस ने एफआईआर दर्ज कर जांच शुरू कर दी। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज के माध्यम से आरोपियों की पहचान की और उन्हें गिरफ्तार कर लिया। गिरफ्तार किए गए आरोपियों के नाम सलमा फहीम काझी, गुड़िया झहुर खान, सलमा मेहताब और एक पुरुष आरोपी हरिश्चंद्र भोलानाथ सोनी है। गिरफ्तार आरोपी नालासोपारा इलाके के रहनेवाले हैं। जहां चेन गिरवी रखने आरोपी जाते थे, ज्वेलरी वाले को उसी इलाके का रहनेवाला बताते थे। आरोपियों के खिलाफ मीरा रोड, नालासोपारा, सांताक्रुज और दहिसर समेत मुंबई व आसपास के इलाके में करीब 20 एफआईआर दर्ज हैं। पुलिस ने इन आरोपियों के पास से 65 ग्राम नकली सोना और नगदी भी बरामद किया है। मामले की जांच दहिसर पुलिस कर रही है।


मुंबइ

भंडारा अस्पताल में हाल ही में आग लगने से  जानमाल का नुकसान हुआ। पुणे में सिरम इंस्टीट्यूट की इमारत में आग लगने से करोड़ों का नुकसान के साथ पांच लोगों की मौत हो गई थी। आगजनी की इन दो घटनाओं से राज्य में हलचल मच गई थी। कुछ ऐसा ही नजारा दिखा बीएमसी के सायन अस्पताल में शनिवार सुबह लगभग 11.45 बजे आग लगने की सूचना पर हार्न बजाती फायर ब्रिगेड की गाड़ियों ने सायन अस्पताल पहुंचकर बचाव अभियान शुरू किया। आग ने इमारत में फंसे कुछ लोगों को बचाया गया। 

 बीएमसी  सुरक्षा बलों के अधिकारियों, सुरक्षा गार्डों ने अस्पताल में भीड़ को रोकने की पूरी कोशिश की, लेकिन आधे घंटे के भीतर ही आग लगने का कारण सामने आ गया। बाद में पता चला कि फायर ब्रिगेड की तरफ से आयोजित यह  मॉक ड्रिल था।

  इससे मरीजों के  रिश्तेदारों और दोस्तों ने राहत की सांस ली। बीएमसी कमिश्नर इकबाल सिंह चहल ने  मुंबई में आग की बढ़ती घटनाओं को देखते हुए मुंबई के एक अस्पताल में मॉक ड्रिल का आदेश दिया था। जिसके अनुसार शुक्रवार से  बीएमसी के अस्पतालों में  मॉक ड्रिल  का आयोजन किया जा रहा है। इससे पहले नायर अस्पताल में भी  मॉक ड्रिल आयोजित की गई थी। इसमें   फायर ब्रिगेड, मुंबई नगर निगम सुरक्षा बल, अस्पताल के  470 कर्मचारियों ने  भाग लिया।


MKRdezign

Contact form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget