चीन पर नजर, भारत और जापान ने अंडमान सागर में किया पनडुब्बी रोधी युद्धाभ्यास

पोर्ट ब्लेयर
हिंद महासागर में चीन के नौसेना की बढ़ती चुनौती के बीच भारत और जापान की नौसेना ने अंडमान सागर में संयुक्त युद्धाभ्यास किया है। इस दौरान दोनों देशों की नौसेना ने  पनडुब्बी को  नष्ट करने के युद्ध कौशल का संयुक्त अभ्यास किया। एक साल के अंदर ऐसा पांचवीं बार है जब इंडियन नेवी ने जापान की नौसेना के साथ युद्धाभ्यास किया है।
नौसेना की ओर से जारी बयान में कहा गया है कि भारतीय नौसेना के जंगी जहाज आईएनएस सहयाद्री और जापान की ओर से उसका सबसे बड़े युद्धपोत जेएस इजूमो ने हिस्सा  लिया। इस दौरान दोनों देशों की नेवी ने रणनीतिक दांवपेच और दुश्मन की पनडुब्बी को नष्ट करने के तरीके का सघन अभ्यास किया। नौसैनिकों ने युद्ध और बचाव में हेलिकॉप्टरों  के इस्तेमाल का भी अभ्यास किया। उधर, जापान की नौसेना ने भी एक बयान जारी कर कहा कि भारत की नौसेना के साथ संबंधों को और ज्यादा गहरा करने के लिए हमने  द्विपक्षीय अभ्यास किया है। हम क्षेत्र में शांति और स्थिरता में योगदान देने के लिए कोई भी मिशन अंजाम देने को तैयार हैं। इससे पहले भारत ने शुक्रवार को अंडमान निकोबार  द्वीप समूह के कार निकोबार द्वीप पर ब्रह्मोस क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है।
इस परीक्षण के दौरान सेना के तीनों अंगों के अधिकारी मौजूद थे। सेना ने कहा कि ब्रह्मोस मिसाइल के सफल और सुचारू परीक्षण के लिए कई एजेंसियों के बीच समन्वय होता है।   यह सेना के तीनों अंगोंका एकजुट प्रयास था जो उनकी आंतरिक एकजुटता के सर्वोच्च मानकों को प्रदर्शित करता है। इस मिसाइल का परीक्षण 270 किलोमीटर की दूरी पर स्थित  एक विशेष लक्ष्य पर किया गया।
बता दें कि भारत और जापान ने ऐसे समय पर संयुक्त युद्धाभ्यास किया है जब हिंद महासागर में चीन की नौसेना की गतिविधियां बहुत तेजी से बढ़ती जा रही हैं।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget