सीख दंगा मामला : सी एम कमलनाथ के खिलाफ फिर से होगी जांच

नई दिल्ली
सिख गुरुद्वारा प्रबंधक कमेटी (डीएसजीपीसी) के अध्यक्ष और दिल्ली की राजौरी गार्डन से भाजपा-अकाली विधायक मनजिंदर सिंह सिरसा ने कहा है कि वर्ष 1984 के सिख दंगा  मामले में मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के भूमिका की जांच होगी। उन्होंने कहा कि हमने 1984 के सिख दंगा मामले में गठित एसआईटी के प्रमुख से मुलाकात की है और दो  गवाहों के बयान दर्ज करने की मांग है। इसके अलावा एसआईटी से कमलनाथ के भूमिका की भी जांच करने की मांग की है। मनजीत सिंह सिरसा ने बताया कि 1984 सिख दंगा  मामले को कमलनाथ से जुड़े मामले को दोबारा से खोलने और उनकी भूमिका की जांच करने का एसआईटी प्रमुख ने भरोसा दिया है। इससे पहले अभी हाल में ही मनजिंदर सिंह  सिरसा ने एक प्रेसवार्ता में कहा था कि गृह मंत्रालय के आदेश के बाद अब एसआईटी मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ के खिलाफ भी जांच कर सकेगी, ख्योंकि सिख दंगों में  कमलनाथ के शामिल होने के पर्याप्त साक्ष्य हैं। उन्होंने बताया था कि वर्ष 1984 के सिख दंगा मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय द्वारा गठित एसआईटी अब उन मामलों की भी जांच  कर सकेगी, जो मामले या तो बंद हो चुके हैं या फिर उनका ट्रायल पूरा हो गया है। हालांकि, उन्हीं मामलों को जांच के लिए फिर से खोला जा सकेगा, जिसमें कोई नया साक्ष्य सामने  आया हो।
कांग्रेस पर कमलनाथ को बचाने का आरोप सिरसा ने कहा था कि संजय सूरी नाम के पत्रकार ने दो नवंबर 1984 के अंक में घटना की खबर छापी थी। डीएसजीपीसी के कर्मचारी  मुफ्तार सिंह ने भी उस समय हुआ दंगा अपनी आंखों से देखा था। इसके बावजूद कांग्रेस और गांधी परिवार 35 वर्षों तक कमलनाथ को बचाता रहा और कोई जांच तक नहीं होने दी  गई। सिरसा ने एसआइटी से मांग की है कि सिख दंगों में दर्ज एफआईआर संब्या 601/84 में कमलनाथ का भी नाम शामिल किया जाए और उनको गिरफ्तार किया जाए। सिरसा ने  कहा कि एक नंवबर 1984 को दिल्ली के संसद मार्ग थाने में दर्ज की गई एफआईआर में पांच दोषियों के खिलाफ चार्जशीट पेश की गई थी, लेकिन कमलनाथ को जानबूझकर छोड़  दिया गया था। पांचों दोषियों की रिहायश का पता कमलनाथ के रिहायश के पते वाला ही पाया गया था।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget