गृहमंत्री बनते ही अमित शाह सक्रिय

नई दिल्ली
भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गृहमंत्री पद संभालते ही कश्मीर को लेकर अपना रूख जाहिर कर दिया है। उन्होंने अपने कार्यकाल के पहले ही दिन जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल  सत्यपाल मलिक को मिलने के लिए बुलाया है। बैठक के बाद राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने कहा कि मैंने उन्हें राज्य में जमीनी हालात, विकास और परिस्थितियों के बारे में  जानकारी दी। इस दौरान दोनों के बीच अमरनाथ यात्रा को लेकर भी बातचीत हुई। इसे लेकर उन्होंने कहा कि हम अमरनाथ यात्रा के लिए तैयार हैं, लोगों के सहयोग से यह पिछले 
साल की तरह इस बार भी सफल होगी।
बता दें कि अमित शाह ने देश के नए गृह मंत्री के तौर पर कार्यभार संभाल लिया। इस दौरान उनके साथ गृह राज्य मंत्री नित्यानंद राय और जी किशन रेड्डी भी मौजूद रहे। गृह  मंत्रालय पहुंचने पर अफसरों ने शाह का स्वागत किया। पदभार संभालने के बाद उन्होंने ट्वीट किया कि आज भारत के गृह मंत्री के रूप में पदभार संभाला। मुझ पर विश्वास प्रकट  करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी का आभार व्यक्त करता हूं। देश की सुरक्षा और देशवासियों का कल्याण मोदी सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता है, मोदी जी के नेतृत्व मैं  इसको पूर्ण करने का हर संभव प्रयास करूंगा। अमित शाह के गृहमंत्री बनने के बाद आतंकवाद, अलगाववाद, नक्सलवाद के खिलाफ मोदी सरकार की जीरो टालरेंस की नीति को नई  धार मिलने की उम्मीद है। पिछले पांच सालों में आतंकी व नक्सली हिंसा में काफी कमी आई है, लेकिन उन्हें पूरी तरह समाप्त नहीं किया जा सका है। अब प्रधानमंत्री मोदी ने दशकों  पुरानी इन समस्याओं को जड़ से खत्म करने के लिए शाह पर भरोसा जताया है।
कश्मीर में पिछला पांच साल मोदी सरकार के लिए प्रयोगों का साल रहा। अलगाववादियों को अलग-थलग करने और बड़ी संख्या में आतंकियों को मार गिराने के बावजूद घाटी में  चुनौती बरकरार है। पत्थरबाजी की घटनाएं जरूर कम हुई हैं, लेकिन आतंकियों के साथ मुठभेड़ के दौरान यह अब भी जारी है। ऐसे में कश्मीर में पिछले चार दशक से जड़ जमाए आतंकी तंत्र को ध्वस्त करना जरुरी है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget