कोस्टल रोड : प्रभावितों का होगा पुनर्वसन

मुंबई
मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि मरीन ड्राइव से कांदिवली के बीच बनने वाला 29 किमी कोस्टल रोड का काम शुरू है। इस परियोजना से प्रभावित कोलीवाड़ा में रहने वाले कोली  समाज के लोगों को किसी प्रकार की दिक्तत नहीं आएगी। बुधवार को विधानपरिषद में राकांपा सदस्य राहुल नार्वेकर ने प्रश्नोत्तर काल के तहत कोस्टल रोड से प्रभावित कोली  समाज के मछुआरों को दि कतें आने का मुद्दा पेश किया था। इसके जवाब में सीएम फड़नवीस ने कोली समाज और मछुआरों को आश्वासन देते हुए कहा कि परियोजना से प्रभावित  कोलीवाड़ा और उसमें रहने वाले कोली समाज के लोगों को इसका मुआवजा दिया जाएगा साथ ही जरूरत पड़ी तो उनका पुनर्वसन भी किया जाएगा। सीएम ने कहा कि इस परियोजना  को शुरू करने के लिए राज्य सरकार ने केंद्रीय पर्यावरण विभाग से सभी प्रकार की मंजूरी ले ली है। इस दौरान विपक्ष ने सरकार से पूछा कि परियोजना को शुरू करने में इतनी देर  क्यों हुई? सीएम फड़नवीस ने कहा कि इस परियोजना की केंद्रीय मान्यता के लिए हमने तत्कालीन केंद्रीय पर्यावरण राज्य मंत्री अनिल दवे के साथ छह बार बैठक की। उसके बाद  इस परियोजना को हरी झंडी मिली। कोस्टल रोड शुरू करने के लिए पर्यावरण विभाग द्वारा मंजूरी देने के एक हफ्ते बाद मंत्री अनिल दवे का निधन हो गया था। मुख्यमंत्री फड़नवीस ने कहा कि मुंबई में शुरू भूमिगत मेट्रो के काम को बाधित करने के लिए कई लोग न्यायालय जा चुके हैं, जिसमें से कइयों ने दिन में और कई लोगों ने रात  में काम करवाने की  अपील न्यायालय से की थी। न्यायालय का फैसला आने तक सरकार का कई करोड़ का नुकसान हुआ। इन सब चीजों को देखते हुए सरकार ने 100 करोड़ से ज्यादा की लागत के  प्रकल्प को न्यायालय में किसी भी प्रकार की आने वाली अड़चनों का तीन महीने के भीतर निपटारा करेगी। इसके लिए सरकार कानून बनाने पर विचार करेगी। साथ ही सीएम ने  बताया की मुंबई में 140 कोलीवाड़ों में से 12 कोलीवाड़ों का सीमांकन किया गया है। सदन में प्रश्नोत्तर काल में कांग्रेस सदस्य भाई जगताप, जयंत पाटिल, भाजपा सदस्य रमेश  पाटिल और विद्या चव्हाण ने हिस्सा लिया।

मुंबईकरोंको सुनामी से बचायेगा कोस्टल रोड
इस दौरान सदन में कोस्टल रोड से होने वाले फायदे को लेकर मुख्यमंत्री फड़नवीस ने कहा कि इस परियोजना को शुरू करने से पहले नीदरलैंड के प्रधानमंत्री भारत दौरे पर आए थे।  उन्होंने कोस्टल रोड को लेकर एक प्रजेंटेंशन दिया था, जिसमें बताया गया कि समुद्र के किनारे बनने वाले कोस्टल रोड से मुंबई शहर सुनामी से सुरक्षित रहेगा। साथ ही पर्यटकों को भी सुविधा मिलेगी।

परियोजना की दि कतों को किया जाएगा दूर
मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य के विकास को लेकर शुरू परियोजनाओं को रोकने के लिए लोग न्यायालय में चले जाते हैं। कई बार उन्हें प्रकल्प पर स्टे मिल जाता है। इसके कारण  राज्य के विकास के अलावा सरकार का प्रतिदिन का करोड़ों रुपए का नुकसान होता है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget