नीलम गोरे विधान परीषद की उपसभापती

मुंबई
शिवसेना की नीलम गोरे को निर्विरोध विधानपरिषद का उपसभापति चुना गया है। सोमवार को विधानपरिषद के कामकाज के दौरान सभापति रामराजे निंबालकर ने उपसभापति पद  के चुनाव की घोषणा की,जिसे सदन के सभी सदस्यों ने सर्वसम्मति से मंजूर किया । इसके बाद राज्य के परिवहन मंत्री दिवाकर रावते ने उपसभापति पद के लिए शिवसेना की  सदस्या नीलम गोरे के नाम का प्रस्ताव रखा, जिसका अनुमोदन मंत्री महादेव जानकार ने दिया। जिसके बाद उन्होंने विधानमंडल के सचिव कार्यभार जितेंद्र भोले के पास अपना अर्ज  दाखिल किया। इसके बाद सभापति ने चुनाव की प्रक्रिया की शुरुआत की गई। इस दौरान विधानपरिषद के कांग्रेस गट नेता शरद रणपिसे ने जोगेंद्र कवाड़े का चुनाव से नाम वापस  लेने की घोषणा की। इसके बाद सभी राजनीतिक दलों के सदस्यों ने नीलम गोरे के नाम पर एकमत सहमति जताई। सभापति रामराजे निंबालकर ने एकमत से नीलम गोरे के  उपसभापति चुने जाने की घोषणा की। विधान परिषद की परंपरा के अनुसार मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ,सभागृह नेता चंद्रकांत पाटील, विरोधी पक्ष नेता धनंजय मुंडे, कांग्रेस के शरद  रणपिसे, सहित अन्य सदस्यों ने नवनिर्वाचित उपसभापति नीलम गोरे को उपसभापति के आसन तक ले गए। नीलम गोरे के उपसभापति चुने जाने के बाद सदन के विरोधी पक्ष नेता  धनंजय मुंडे, कांग्रेस गट नेता शरद रणपिसे सहित सभी सदस्यों ने उनका अभिनंदन किया। महाराष्ट्र विधानपरिषद के इतिहास में दूसरी बार किसी महिला को उपसभापति चुना गया  है। इस दौरान मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस ने कहा कि सदन की सदस्या के दौरान नीलम गोरे ने सामाजिक और समाज से जुड़े प्रश्नो को लेकर हमेशा आक्रमण कार्य किया। सदन में  कई अहम मुद्दों को लेकर बने काननू में उनका विशेष योगदान रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget