प्रणीत ने ब्रांझ से खत्म किया 36 साल का सूखा

बासेल (स्विट्जरलैंड)
भारतीय शटलर बी साई प्रणीत का बीडŽल्यूएफ वर्ल्ड चैंपियनशिप में सफर सेमीफाइनल में हार के साथ थम गया। प्रणीत को दुनिया के नंबर-1 खिलाड़ी जापान के केंतो मोमोता ने  लगातार गेमों में हरा दिया, जिससे भारतीय शटलर को टूर्नामेंट में ब्रांज से संतोष करना पड़ा। इस हार के बावजूद प्रणीत ने अपना नाम रिकॉर्ड बुक में दर्ज करा लिया और वह 36  साल बाद इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में पदक जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष शटलर हैं। 19वीं रैंकिंग के प्रणीत को मोमोता के खिलाफ 13-21, 8-21 से हार झेलनी पड़ी। यह मुकाबला   42 मिनट तक चला। 16वीं वरीयता प्राप्त प्रणीत ने क्वॉर्टर फाइनल में इंडोनेशिया के जॉनाटन क्रिस्टी को सीधे गेमों में मात दी थी, लेकिन वह सेमीफाइनल में अपनी लय बरकरार  नहीं रख सके। प्रणीत को अब ब्रांज मेडल मिलेगा। केंतो मोमोता के खिलाफ प्रणीत की यह लगातार चौथी हार है। मोमोता ने इसी साल प्रणीत को जापान ओपन और सिंगापुर ओपन  में हराया था। पिछले साल भी वर्ल्ड चैंपियनशिप में मोमोता ने प्रणीत को लगातार गेमों में मात दी थी। इसी साल अर्जुन पुरस्कार के लिए चुने गए दुनिया में 19वें नंबर के शटलर  प्रणीत ने एशियन गे्स के गोल्ड मेडलिस्ट क्रिस्टी को हराया। वह 1983 के बाद इस प्रतिष्ठित टूर्नामेंट में पदक जीतने वाले पहले भारतीय पुरुष शटलर हैं। दिग्गज बैडमिंटन खिलाड़ी  प्रकाश पादुकोण वर्ल्ड चैंपियनशिप में पुरुष एकल में पदक जीतने वाले पहले भारतीय थे।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget