यमुना मे उफान

नई दिल्ली
यमुना में जलस्तर काफी बढ़ चुका है। वहीं आज शाम तक 207.08 मीटर तक पंहुचने की आशंका जताई जा रही है। यमुना में उफान आने से आसपास की सभी झुग्गी बस्तियां डूब  चुकी हैं। इतना ही नहीं यमुना के ऊपर बने लोहा पुल से गुजरने वाली ट्रेनों पर रोक लगा दी गई है और दिल्ली आने-जाने वाली करीब एक दर्जन गाड़यिों को डायवर्ट किया गया है।  यमुना के कारण बढ़े बाढ़ के खतरे को देखते हुए हरिद्वार-अहमदाबाद योग एक्सप्रेस, बरेली-दिल्ली एक्सप्रेस, कोटद्वार िदल्ली गढ़वाल एक्सप्रेस, गाजियाबाद-नई दिल्ली ईएमयू,  अमृतसर-जयनगर शहीद एक्सप्रेस, भिवाणी-कानपुर कालिंदी एक्सप्रेस, जैसलमेर-काठगोदाम रानीखेत एक्सप्रेस, दिल्ली-शाहजहांपुर पैसेंजर, दिल्ली-डिब्रूगढ़ ब्रह्मपुत्र मेल और दिल्ली- मालदा टाउन फरक्का एक्सप्रेस को डावर्ट किया गया है। बाढ़ के खतरे को देखते हुए लोहे के पुल के पास हृष्ठक्रस्न की टीम तैनात की गई है। जो आम लोगों को जागरूक कर रही  है। साथ ही टीम पूरी तरह अलर्ट पर है कि अगर कोई खतरा होता है तो तत्काल कदम उठाया जा सके। इतना ही नहीं यमुना के आसपास कड़ी नजर रखी जा रही है ताकि कोई  हादसा न हो।
ऊपर से गुजरती ट्रेनों पर रोक लगाने के साथ ही प्रशासन ने लोहा पुल के निचले हिस्से को भी बंद कर दिया है। इस हिस्से से बड़ी संक्या में मोटर वाहन गुजरते हैं। तीन दिनों से   बंद इस हिस्से को अगले आदेश के बाद ही खोला जाएगा। गौरतलब है कि लोहा पुल के आसपास यमुना के निचले इलाके में किसान बस्ती की सभी झुग्गियां लगभग डूब चुकी हैं। ये   लोग पुश्ते पर ऊपरी तरफ अस्थाई कैंपो में रह रहे हैं। ए कैम्प इन्होंने खुद ही बनाए हैं। हालांकि किसान बस्ती में रह रहे लोगों को सरकार की तरफ से नाश्ता दिया जा रहा है।  लोगों की शिकायत है कि वे तीन से चार दिन से इन कैंपों में रह रहे हैं, लेकिन सरकार की तरफ से आज ही नाश्ता आना शुरू हुआ है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget