मैने अपना अमूल्य मित्र खो दिया : पी एम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अरुण जेटली को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा, ''अरुण जी महान राजनेता थे। बुद्धिजीवी होने के साथ उन्हें कानूनी महारत प्राप्त थी। मैंने जेटली जी  की   पत्नी संगीता और बेटे रोहन से बातचीत कर संवेदनाएं प्रकट की हैं। अरुण जी में गंभीरता और विनोदप्रियता का अनूठा संगम था। समाज के हर वर्ग में लोग उन्हें चाहते थे।  संविधान, इतिहास, सार्वजनिक नीति और प्रशासन की उन्हें गहरी समझ थी। केंद्रीय मंत्री के रूप में उन्होंने कई जिम्मेदारियों का निर्वहन किया। देश की आर्थिक उन्नति में योगदान  दिया, सुरक्षा को मजबूत किया और ऐसे कानून बनाने में महती भूमिका निभाई जो जनता के लिए सहूलियत वाले हों। भाजपा से उनका अटूट रिश्ता रहा। आपातकाल में वो छात्र  नेता के तौर पर सक्रिय रहे। उनके निधन से मैंने एक अमूल्य मित्र खो दिया है। ये मेरा सौभाग्य रहा कि मैंने उनके साथ कई दशकों तक काम किया। वे सदा हमारे दिलों में रहेंगे।  
ओम शांति...।''
सर्वविदित है प्रधानमंत्री को जब जेटली के निधन की खबर मिली तो वह यूएई में थे। शनिवार को वह बहरीन पहुंचे। वहां पर उनका भव्य स्वागत किया गया। बहरीन में भारी जनसमुदाय को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी का दर्द छलक पड़ा। उन्होंने हजारों लोगों के सामने अपना दर्द बयां करते हुए कहा, ''आज एक गहरा दुख दबाए मैं आपके सामने  खड़ा हूं। छात्र जीवन से ही जिस दोस्त के साथ मिलकर चला, राजनीतिक यात्रा साथ-साथ चली, हरपल एक-दूसरे के साथ जुड़े रहना, साथ मिलकर जूझते रहना, सपनों को सजाना,  निभाना, ऐसा लंबा सफर जिसके साथ पूरा किया, वह अरुण जेटली भारत के पूर्व रक्षा मंत्री, वित्त मंत्री ने आज अपना देह छोड़ दिया। मैं कल्पना नहीं कर सकता कि मैं इतना दूर  यहां बैठा हूं और मेरा दोस्त चला गया। भारी व्यथा के साथ, दुख के साथ, ये अगस्त का महीना, कुछ दिनों पहले हमारी बहन सुषमा चली गईं, आज अरुण चला गया। बहुत दुविधा   की बात है। एक तरफ कर्तव्य भाव से बंधा हूं, दूसरी तरफ दोस्ती की भावना है। बहरीन की धरती से भाई अरुण को आदरपूर्वक श्रद्धांजलि देता हूं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget