पीएम नरेंद्र मोदी को सर्वोच्च नागरिक सम्मान

अबु धाबी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को यूएई का सर्वोच्च नागरिक सम्मान ऑर्डर ऑफ जाएद से नवाजा गया। यह सम्मान पाने वाले वह पहले भारतीय प्रधानमंत्री हैं। पीएम मोदी ने शनिवार को   सम्मान लेने से पहले यूएई के शासक के साथ उच्चस्तरीय वार्ता भी की। पीएम मोदी ने यूएई दौरे के दौरान कहा कि दोनों देशों के बीच संबंध लगातार मजबूत हो रहे हैं। पीएम ने  यह भी कहा कि आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई में भारत के साथ यूएई हमेशा मजबूती से खड़ा रहा।

किसे मिलता है यह सम्मान?
यह सम्मान राष्ट्र प्रमुखों और राष्ट्रपतियों को दिया जाता है। यह सम्मान साल 2007 में रूस के राष्ट्रपति पुतिन, 2016 में महारानी एलिजाबेथ, और 2018 में चीनी राष्ट्रपति शी  चिनफिंग को मिल चुका है। प्रधानमंत्री मोदी बतौर प्रधानमंत्री दो बार यूएई का दौरा कर चुके हैं वहीं शेख मोहख्मद बिन जाएद भी तीन साल में दो बार भारत आ चुके हैं।

5 हजार  साल पुराने रिश्तों को 21वीं सदी की ताजगी देना चाहता हूं
मोदी  मनामा। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने तीन देशों की यात्रा के तीसरे चरण में शनिवार रात बहरीन पहुंचे। उनका अल-गुदाइबिया पैलेस में सेरेमोनियल वेलकम किया गया। इसके  बाद उन्होंने राजधानी मनामा में भारतीय समुदाय को संबोधित किया। प्रधानमंत्री ने कहा कि मेरा प्रयास पांच हजार साल पुराने रिश्तों को 21वीं सदी की ताजगी और आधुनिकता देने  का है। हमारे रिश्ते नई ऊंचाइयों पर पहुंचे, इसके लिए आपका साथी बनकर खड़ा हूं। यहां स्वागत से लग रहा है कि भारत के किसी हिस्से में हूं। मोदी ने लोगों को कृष्ण जन्मोत्सव  की शुभकामनाएं दीं। मोदी ने कहा कि आपके प्यार के सामने नतमस्तक हूं। मैं बहरीन के खलीफा, प्रधानमंत्री और यहां की सरकार का आभार व्यक्त करता हूं। मुझे एहसास है कि  भारत के प्रधानमंत्रियों को बहरीन पहुंचने में कुछ ज्यादा ही समय लग गया। लेकिन यहां आने वाले पहले भारतीय प्रधानमंत्री होने का सौभाग्य मुझे मिला। बहरीन के लाखों दोस्तों से  संवाद का मौका मिला। मेरा प्रयास पांच हजार साल पुराने रिश्तों को 21वीं सदी की ताजगी और आधुनिकता देना है। हमारे रिश्ते नई ऊंचाइयों पर पहुंचे, इसके लिए आपका साथी  बनकर खड़ा हूं। आपको 130 करोड़ भारतीयों की ओर से न्यौता देने आया हूं। भाइयों-बहनों बहरीन से हमारे संबंध व्यापार से बढ़कर मानवीय और संस्कृति के रहे हैं। हजारों सालों के  हमारा एक दूसरे के यहां आना-जाना रहा है। हमने अपनी साझेदारी स्पेस तक बढ़ाने का फैसला किया। द किंग से मुलाकात के लिए मैं बहुत ही उत्सुक हूं। उन्होंने मुझे निमंत्रण भेजा  इसके लिए मैं उनका शुक्रगुजार हूं। दोनों देशों के समाज ने लंबे समय के लिए एक दूसरे से बहुत कुछ पाया है। विशेष तौर पर हमारी फैमिली वैल्यूज। दोनों देशों के समाज ने  सशक्त फैमिली सिस्टम को हमने समाज का आधार माना है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget