गोविंदाओं ने फोड़ी मटकी

मुंबई
जन्माष्टमी के मौके पर मुंबई में होने वाली दही हंडी उत्सव का अपना अलग आकर्षण रहता है। भगवान कृष्ण के जन्म की खुशी के इस त्यौहार को मुंबई में सभी धर्मों के लोग एक  साथ मनाते है। मुंबई में जन्माष्टमी की जबरदस्त धूम रही । गोविंदा आला रे, गोविंदा आला रे की धुनों के बीच दही हंडी उत्सव दिन भर चला। मुंबई में बेहद पारंपरिक तरीके से  दही हंडी तोड़ने के मनमोहक नजारे नजर आए। इन सब के बीच मुंबई के फखरूद्दीन की चर्चा सबसे ज्यादा हुई। फखरूद्दीन हर साल इस दिन अपने बच्चों को लेकर दही हंडी फोड़ने  गोविंदा पथकों के साथ निकल पड़ते है। दक्षिण मुंबई के ठाकुर द्वार इलाके में स्थानीय लोगों की दही हंडी फोड़ने के उत्सव आयोजित किया। इस उत्सव के लिए गोविंदा पिछले कई  दिनों से प्रैक्टिस में जुटे थे। दही हंडी उत्सव के दौरान मुंबई पुलिस किसी भी अनहोनी से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार दिखी। 

119 गोविंदा जखमी
दिन भर दही हंडी फोड़ते समय 119 गोविंदाओं के जख्मी होने की खबर है। यह आंकड़े रात 9 बजे तक के है। कुल 119 जख्मियों में से 26 को भर्ती किया गया , जबकि 93 को  मरहम पट्टी कर छोड़ दिया गया । जानकारी के मुताबिक मुंबई के केईएम अस्पताल में कुल 27 जख्मी आए थे , जिसमें से भर्ती 6 को भर्ती 21 को डिस्चार्ज कर दिया गया। इसी  तरह नायर अस्पताल में 13 लोगों में से 2 को भर्ती 11 को इलाज के बाद छोड़ दिया गया। वहीं सायन अस्पताल में 7 को एडमिट और 5 डिस्चार्ज किया गया। इसके अलावा  जेजे  अस्पताल में एक, जसलोक अस्पताल में एक, हिंदुजा अस्पताल में एक ,सेंट जार्ज अस्पताल में छह ,जीटी अस्पताल में एक , बांबे अस्पताल में एक ,शताब्दी गोवंडी अस्पताल में दो  ,एमटी अग्रवाल अस्पताल में एक ,राजावाड़ी में 18 , बांद्रा भाभा अस्पताल में 12 ,कूपर अस्पताल में 11 ,ट्रामा केअर में पांच , व्ही एन देसाई अस्पताल में एक , कांदिवली शताब्दी  अस्पताल में छह जख्मी लोग इलाज के लिए आए थे। 

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget