श्रीनगर से लौटाई गई 'टीम राहुल'

श्रीनगर
जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के करीब 20 दिनों बाद शनिवार को हालात देखने श्रीनगर पहुंचे विपक्षी दलों के एक प्रतिनिधिमंडल को एयरपोर्ट से ही वापस भेज दिया गया।  कांग्रेस की ओर से राहुल गांधी के साथ गुलाम नबी आजाद, एनसीपी नेता माजिद मेमन, सीपीआई लीडर डी. राजा के अलावा शरद यादव सहित कई दिग्गज नेता पहुंचे थे। शनिवार  शाम करीब 6 बजे ये लोग दिल्ली एयरपोर्ट पहुंच गए। इस पूरे घटनाक्रम पर गवर्नर सत्यपाल मलिक ने राहुल गांधी पर निशाना साधा है। उन्होंने कहा कि यहां उनकी (राहुल गांधी)  कोई जरूरत नहीं है। अगर यहां आकर वह राजनीति करना चाहते हैं, तो यह ठीक नहीं है।
गवर्नर ने कहा कि 'उनकी जरूरत संसद में थी, जब उनके सहयोगी संसद में बोल रहे थे। यहां आकर वह हालात और बिगाड़ना चाहते हैं तो यह ठीक नहीं है।' उन्होंने कहा कि 'मैंने  उनको सद्भाव के नाते बुलाया था, मगर उन्होंने इस पर राजनीति करना शुरू कर दिया। इन लोगों का यहां आना पूरी तरह राजनीति से प्रेरित था। राजनीतिक दलों को चाहिए कि वे  राष्ट्रीय सुरक्षा के मसलों को राजनीति से दूर रखें।' राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद को इससे पहले भी दो बार वापस भेजा जा चुका है। विपक्षी नेताओं के दल के  श्रीनगर रवाना होने से पहले आजाद ने अपने घर पर मीडिया से बात की। उन्होंने सरकार के कश्मीर पर विपक्षी दलों द्वारा राजनीति करने के आरोप पर पलटवार करते हुए कहा  कि 'जिनको राजनीति करनी थी उन्होंने राजनीति कर दी। राज्य के दो टुकड़े कर दिए। हम वहां जाना चाहते हैं ताकि सरकार की मदद कर सकें। विपक्षी नेता भी कानून को समझने  और उसका पालन करनेवाले लोग होते हैं।' बता दें कि जम्मू-कश्मीर में अनुच्छेद 370 हटने के बाद पैदा हुए हालात का जायजा लेने के लिए राहुल गांधी सहित कई विपक्षी नेता  शनिवार को श्रीनगर रवाना हुए थे। जम्मू-कश्मीर के प्रशासन ने उनसे दौरे को टालने की अपील भी की थी। नेताओं के एयरपोर्ट पहुंचने पर जमकर हंगामा हुआ। बाद में प्रशासन ने इन सभी को वापस दिल्ली भेज दिया।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget