कोहली की टीम इंडिया चुनौती के लिए तैयार

नॉर्थ साउंड
भारतीय टीम पहली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के शुरुआती मुकाबले में आज जब वेस्टइंडीज के सामने उतरेगी, तो कप्तान विराट कोहली सटीक टीम संयोजन को लेकर जीत के साथ  आगाज करना चाहेंगे। भारत अगर यह मैच जीतता है, तो बतौर कप्तान कोहली की 27वीं टेस्ट जीत होगी और वह महेंद्र सिंह धोनी की बराबरी कर लेंगे। इस मैच में शतक जमाने  पर वह बतौर कप्तान 19 टेस्ट शतक के रिकी पोंटिंग के रिकॉर्ड की बराबरी कर लेंगे। विंडीज को हल्के में लेना पड़ सकता है भारी कोहली, चेतेश्वर पुजारा, केएल राहुल और रोहित  शर्मा के रहते भारतीय टीम कागजों पर मजबूत लग रही है, लेकिन जेसन होल्डर की अगुआई वाली कैरेबियाई टीम को हल्के में नहीं लिया जा सकता। इंग्लैंड को इसका अनुभव हो  चुका है, जिसे इस साल की शुरुआत में वेस्टइंडीज की जीवंत पिचों पर 1-2 से पराजय झेलनी पड़ी।

तेज गेंदबाजों के लिए मददगार है पिच
एंटीगा के सर विवियन रिचर्डस स्टेडियम की विकेट भी तेज गेंदबाजों की मददगार है। कोहली ने पहली विश्व टेस्ट चैंपियनशिप के बारे में कहा कि लोग ऐसी बातें कर रहे हैं कि टेस्ट  क्रिकेट प्रासंगिक नहीं रह गया है या खत्म हो रहा है । मेरा तो यह मानना है कि प्रतिस्पर्धा दुगुनी हो गई है। खिलाड़ियों को चुनौती का सामना करके जीत का प्रयास करना चाहिए।  उन्होंने कहा कि अब मुकाबले काफी प्रतिस्पर्धी होंगे और टेस्ट मैच रोमांचक हो जाएंगे। यह सही समय पर लिया गया सही फैसला है।

नई गेंद का सामना करना है चुनौती
यहां पिछले टेस्ट में इंग्लैंड की टीम 187 और 132 रन पर आउट हो गई थी, लेकिन वह दूसरा समय था। कोहली और मुख्य कोच रवि शास्त्री की चिंता का सबब केमार रोच और  शेनोन गैब्रियल से मिलने वाली नई गेंद की चुनौती होगा। 

तीन पेसर्स के साथ उतर सकती है टीम इंडिया 
पिच में गति और उछाल होने पर कोहली चार विशेषज्ञ गेंदबाजों को लेकर उतर सकते हैं। ऐसे में आर अश्विन और कुलदीप यादव के बीच एकमात्र स्पिनर की जगह के लिए होड़  होगी। तीन तेज गेंदबाजों की जगह जसप्रीत बुमरा, ईशांत शर्मा ओर मोहम्मद शमी लेंगे।

Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget