घुसपैठ की फिराक मे 500 आतंकी

Bipin Rawat
चेन्नई
पाकिस्तान ने भारत द्वारा ध्वस्त बालाकोट स्थित जैश-ए- मोहम्मद के आतंकी ठिकाने को फिर से ऐक्टिव कर दिया है। जम्मू- कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाए जाने के बाद ही  पाकिस्तान बौखलाया हुआ है। वह खुलेआम भारत को आतंकी हमले की धमकी दे रहा है। पाकिस्तान एक बार फिर आतंकियों की फौज तैयार कर रहा है। सूत्रों के अनुसार पीओके से  जम्मू-कश्मीर में 500 आतंकी घुसपैठ की कोशिश में लगे हैं। हालांकि, आर्मी चीफ जनरल बिपिन रावत ने पाकिस्तान को चेतावनी देते हुए कहा है कि भारतीय सेनाएं सीमा पर  मुस्तैद डटी हुई है और वह बालाकोट से आगे भी जा सकती हैं। रावत ने यह भी कहा कि इस्लाम का गलत इस्तेमाल किया जा रहा है और धर्म गुरुओं को इस्लाम का सही मतलब  बताना चाहिए। सेना प्रमुख ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद पाकिस्तान ने खुलेआम बोल दिया है कि हम आतंकी भेजेंगे। इसके लिए पाकिस्तान  अक्सर  सीजफायर उल्लंघन कर रहा है, ताकि आतंकवादी आसानी से भारतीय क्षेत्र में घुस जाएं, लेकिन जब जवान सीजफायर उल्लंघन से प्रभावित नहीं होते हैं, तो पाकिस्तान नागरिक ठिकानों पर गोले बरसाने लगता है। सेना प्रमुख ने पाकिस्तान को चेतावनी दी कि हम बालाकोट से भी आगे जा सकते हैं। हम चाहते हैं कि दुश्मन केवल अनुमान लगाता रहे।
आर्मी चीफ ने कहा कि पाकिस्तान के बालाकोट में स्थित आतंकी शिविर फिर से सक्रिय हो गया है। उन्होंने बताया कि हाल ही में इसे फिर से शुरू किया गया है। यही नहीं, पीओके  से 500 आतंकी भारत में घुसपैठ की फिराक में हैं। पाकिस्तान ने पीओके स्थित लांच पैड को भी सक्रिय कर दिया है। सेना प्रमुख ने कहा कि इन आतंकवादियों से निपटने के लिए  सेना पूरी तरह से सक्रिय हैं, ताकि घुसपैठ की कोशिश को विफल किया जा सके। बता दें कि भारतीय वायुसेना के विमानों ने पाकिस्तान में घुसकर बालाकोट आतंकी शिविर पर बम बरसाए थे। इसके बाद कुछ दिनों तक जैश का यह ठिकाना बंद रहा था।

धर्म गुरु इस्लाम का सही अर्थ बताएं
चेन्नई में मीडिया से बातचीत में सेना प्रमुख ने कहा कि मैं समझता हूं कि कुछ तत्व इस्लाम की गलत व्याक्या कर रहे हैं, जो यह चाहते हैं कि अव्यवस्था पैदा हो और ऐसे तत्वों  को बड़ी संख्या में लोगों द्वारा पाला जा रहा है। मैं समझता हूं कि यह महत्वपूर्ण है कि हमारे जो धर्म गुरु हैं, वे इस्लाम का सही अर्थ बताएं। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान ने  अनुच्छेद 370 को हटाए जाने के बाद आतंकवादियों की घुसपैठ की कोशिश और तेज कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर में जनजीवन सामान्य
आर्मी चीफ ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में कोई कठोर प्रतिबंध नहीं है। वहां लोग रोजमर्रा का काम कर रहे हैं। लोग सेब तोड़ रहे हैं और उन्हें पैक कर रहे हैं। सेना इसे राज्य के  बाहर पहुंचाने में मदद कर रही है। कुछ दुकानों के आगे के शटर बंद हैं, लेकिन पीछे से उन दुकानों से खरीददारी हो रही है। ये दुकानें पीछे से खुली हैं। लोग प्लेन से लगातार आ जा  रहे हैं। लोगों को आने जाने पर कोई प्रतिबंध नहीं है। आर्मी चीफ ने कहा कि कश्मीर घाटी में आतंकवादियों और उनके आकाओं के बीच संपर्क टूट गया है, लेकिन लोगों के आपस में  बातचीत पर कोई प्रतिबंध नहीं है। उन्होंने कहा कि वुहान समिट के बाद चीन के साथ सीमा पर एक व्यवस्था बनी है, जो बहुत अच्छा काम कर रही है। अगर कोई गलतफहमी  होती है, तो बातचीत से हल किया जाता है। चीन का सीमा को लेकर अलग दावा है और हमारा अलग। इस वजह से दोनों देशों के सैनिक अपनी मान्यता के हिसाब से गश्त लगाते  हैं, जिससे कई बार कुछ मतभेद हो जाता है। इसे बातचीत के जरिए सुलझा लिया जाता है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget