अशोक चव्हाण अपनी प्रतिष्ठा बचाने के लिए न लड़ें चुनाव : विनोद तावडे

मुंबई
पिछला लोकसभा चुनाव हारने के बाद राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण को विधानसभा चुनाव नहीं लड़ना चाहिए। विधानसभा चुनाव में भी अगर  चव्हाण हार गए तो उनकी प्रतिष्ठा खत्म हो जाएगी। राज्य के उच्चशिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने अशोक चव्हाण पर हमला बोलते हुए यह बात कही।
तावड़े ने कहा कि चव्हाण किसी भी विधानसभा क्षेत्र से चुनाव लड़ेंगे तो वे हार जाएंगे। प्रदेश भाजपा ने विधानसभा चुनाव की तैयारी को लेकर राज्य में सात मंडल केंद्र शुरू किए हैं,  जिसके तहत मंगलवार को उच्चशिक्षा मंत्री विनोद तावड़े ने नांदेड़ और औरंगाबाद का दौरा किया। यहां पत्रकारों से बातचीत करते हुए तावड़े ने पूर्व सीएम अशोक चव्हाण पर निशाना   साधा। जिसमें उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान नांदेड़ लोकसभा क्षेत्र से अशोक चव्हाण ने चुनाव लड़ा था और चुनाव हार गए थे। उनको मेरी सलाह है कि उन्हें अगर अपनी  प्रतिष्ठा बचानी है तो वे विधानसभा का चुनाव भी न लड़ें। वहीं भाजपा और शिवसेना के बीच युति पर बोलते हुए तावड़े ने विश्वास जताया कि युति होगी। तावड़े ने कहा कि पिछले  पांच साल में राज्य सरकार ने जो विकास कार्य किए हैं, उन्हें देखते हुए राज्य की जनता महायुति को 2014 की तुलना में इस बार अधिक सीटें देगी।
उन्होंने मुख्यमंत्री के बयान को दोहराया कि वंचित बहुजन गठबंधन आगामी विपक्षी पार्टी होगी। मीडिया से संबंधित काम इन मीडिया केंद्रों के माध्यम से प्रत्येक निर्वाचन क्षेत्र के  निर्वाचन क्षेत्रों के लिए किया जाएगा। प्रत्येक विधानसभा के दैनिक मामलों के बारे में जानकारी एकत्र की जाएगी। अगर किसी मुद्दे को विधानपरिषद में जिला परिषद या पंचायत  समिति तक उठाया जाता है तो सोशल मीडिया पर इस पर चर्चा की जाती है। मीडिया सेंटर के माध्यम से बूथ स्तर तक पहुंचने की व्यवस्था की जाएगी। उन्होंने कहा कि सभी सात  मीडिया केंद्रों को राज्य के मीडिया केंद्रों से जोड़ा जाएगा। वर्तमान में, चुनावी अभियान प्रणाली बदल गई है। अब, अखबारों से लेकर डिजिटल मीडिया तक, चुनाव प्रचार बहुत व्यापक  रूप से किया जाता है। मीडिया पर नकारात्मक प्रचार की गलत सूचना को सही करते हुए इस जानकारी को फैलाने का उचित तरीका राज्य में भाजपा के मीडिया केंद्रों के माध्यम से  किया जाएगा।

अशोक चव्हाण का विनोद तावड़े पर पलटवार
वहीं मंत्री विनोद तावड़े के सवालों का जवाब देते हुए पूर्व मुख्यमंत्री अशोक चव्हाण ने कहा कि भाजपा विश्व की नंबर वन पार्टी है लेकिन चुनाव लड़ने के लिए इसे निष्ठावान  कार्यकर्ता नहीं मिलता।
उन्होंने कहा कि भाजपा का दावा है कि केंद्र और राज्य सरकार ने अच्छा काम किया है। लेकिन चुनाव मैदान में अपने वफादार कैडर को उतारने के बजाय तावड़े को अधिक सावधानी   बरतनी चाहिए कि कहीं भाजपा उम्मीदवारों को भागना न पड़े। पार्टी द्वारा किसे नामित किया जाएगा, इसके लिए तावड़े को अपनी नाक खुजाने की जरूरत नहीं है। साथ ही उन्होंने  यह भी आरोप लगाया कि उन्हें भाजपा में विद्रोह पर ध्यान देना चाहिए। अशोक चव्हाण ने आरोप लगाया कि सरकार ने लोकतंत्र की अवमानना करते हुए कहा है कि विपक्षी दलों को  चुनाव नहीं लड़ना चाहिए।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget