विचित्र कानूनी विवाद में फंसे महेंद

जहानाबाद
बिहार के जहानाबाद जिले के गोविंदपुर गांव निवासी किंग महेंद्र प्रसाद के नाम से मशहूर उद्योगपति वराज्यसभा सदस्य महेंद्र प्रसाद अजीब कानूनी उलझन में फंस गए हैं। दरअसल एक महिला  ने सुप्रीम कोर्ट पहुंचकर इस बात का दावा किया है कि वह उनकी कानूनी तौर पर पत्नी हैं और उन्हें उनके साथ रहने दिया जाए। मालूम हो कि किंग महेंद्र अपनी लिव इन पत्नी उमा देवी के  साथ दिल्ली स्थित आधिकारिक आवास में साथ रहते थे। बिहार की 79 वर्षीय इस महिला उमा देवी का दावा है कि वह सात बार सांसद रह चुके किंग महेंद्र के साथ पिछले 45 सालों से रह रही  हैं। उमा देवी ने दिल्ली हाईकोर्ट के उस आदेश को चुनौती दी है, जिसमें कोर्ट ने उन्हें चार सप्ताह तक किंग महेंद्र से अलग रहने का आदेश दिया था। उसके बाद उन्होंने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। सुप्रीम कोर्ट में जस्टिस आर. बनमुथी की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष यह मामला सुनवाई के लिए आया। महिला की ओर से पेश वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने कहा कि  हाईकोर्ट ने इस मामले में पूरी तरह से अवैध प्रक्रिया का पालन किया है।
पति-पत्नी को अलग-अलग क्यों रहना चाहिए? उन्होंने इसे अजीबोगरीब मामला बताया और जांच पर सवाल उठाए। उन्होंने कहा कि हाईकोर्ट को इस तरह का आदेश नहीं देना चाहिए, क्योंकि यह  बंदी प्रत्यक्षीकरण से जुड़ा मामला है। याचिका सांसद के बेटे ने दायर की हुई है। बता दें कि इससे पहले किंग महेंद्र के बेटे रंजीत शर्मा ने आरोप लगाया है कि उनके पिता की सेक्रेटरी उमा देवी ने  उनकी मां को एक फार्म हाउस में बंधक बना रखा है। उन्हें ना तो पिता से मिलने दिया जा रहा है और ना ही मां से। साथ ही उन्होंने पिता को अल्जाइमर रोग होने की बात कही है। रंजीत शर्मा  का आरोप है  कि उनकी माता और पिता जिनकी उम्र 80 साल है उन्हें बंधक बनाकर रखा गया है। उनको हमसे मिलने नहीं दिया जा रहा है। साथ ही उन्होंने आरोप लगाया था कि सांसद की  सेक्रेट्री उमा देवी ने बंधक बनाकर रखा हुआ है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget