वायुसेना को मिला आकाश का योद्घा

apache helicopter
पठानकोट
अमेरिका से खरीदे गए 8 अपाचे हेलिकॉप्टर मंगलवार को वायुसेना के जंगी बेड़े में शामिल हो गए। ये 125 हेलिकॉप्टर यूनिट 'ग्लेडिएटर्स' का हिस्सा होंगे। हेलिकॉप्टर पंजाब के  पठानकोट एयरबेस पर तैनात हो चुके हैं। एयर चीफ मार्शल बीएस धनोआ की मौजूदगी में हुई इंडक्शन सेरेमनी में इन हेलिकॉप्टर को वॉटर केनन सैल्यूट दिया गया। भारत का  2015 में अमेरिका और बोइंग कंपनी से 4168 करोड़ रुपए में 22 अपाचे खरीदने का करार हुआ था। 2020 तक ये सभी वायुसेना के बेड़े में शामिल हो जाएंगे। इनमें से 11 पाक  सीमा के साथ पठानकोट और 11 चीन सीमा के साथ असम के जोरहाट में तैनात किए जाएंगे।

अपाचे हेलिकॉप्टर की खासियतें
एएच 64ई अपाचे दुनिया के सबसे एडवांस मल्टी का बैट हेलिकाप्टर हैं। इनमें हाईक्वालिटी नाइट विजन सिस्टम है, जिससे दुश्मन को अंधेरे में भी ढूंढ़ा जा सकेगा। यह मिसाइल से  लैस हैं और एक मिनट में 128 लक्ष्यों पर निशाना साधा जा सकता है। भारी मात्रा में हथियार ले जाने की क्षमता है। 293 किमी प्रति घंटा की रफ़्तार से उड़ान भर सकता है।  हेलिकॉप्टर में 16 एंटी टैंक एजीएम-114 हेलफायर और स्ट्रिंगर मिसाइल लगी होती है। हेलफायर मिसाइल किसी भी आर्मर्ड व्हीकल जैसे टैंक, तोप, बीएमपी वाहनों को पलक झपकते  ही ध्वस्त कर सकती है। वहीं, स्ट्रिंगर मिसाइल हवा से आने वाले किसी भी खतरे का सामना करने में सक्षम है। इसके साथ ही इसमें हाइड्रा-70 अनगाइडेड मिसाइल भी लगी होती  हैं, जो जमीनी टारगेट को तबाह कर सकती हैं।

अब आतंकी हमले पर तुरंत लिया जा सकेगा एक्शन
पठानकोट और जम्मू का सांबा, कठुआ को पाकिस्तान कश्मीर का चिकन नेक मानता है। कश्मीर का संपर्क काटने के लिए वह बार-बार यहीं हमले कराता है। पंजाब और जम्मू- कश्मीर बॉर्डर पर पाक हमले की स्थिति में तुरंत बड़ा एक्शन लिया जा सकेगा।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget