जमानत के लिए हाईकोर्ट की शरण में पहुंचे डीके शिवकुमार

D K Shivkumar
नई दिल्ली
मनी लॉड्रिंग के मामले में गिरफ्तार कर्नाटक के कांग्रेस नेता डीके शिवकुमार ने जमानत के लिए गुरुवार को दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। शिवकुमार की जमानत याचिका  को बुधवार को निचली अदालत ने खारिज कर दिया था। उस फैसले को चुनौती देने के लिए अब उन्होंने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। निचली अदालत ने इस तथ्य का संज्ञान  लिया था कि शिवकुमार एक प्रभावशाली व्यक्ति हैं और वह गवाहों को प्रभावित कर सकते हैं या संबंधित दस्तावेज के साथ छेड़छाड़ कर सकते हैं।
इसको देखते हुए अदालत ने कहा था कि जांच के इस महत्वपूर्ण चरण में अगर शिवकुमार को रिहा किया जाता है तो जांच में बाधा आ सकती है। शिवकुमार को राहत देने से इंकार  करते हुए जज ने कहा था कि जांच के इस चरण में शिवकुमार जमानत पाने के हकदार नहीं हैं। कांग्रेस नेता की जमानत याचिका पर विचार करते हुए अदालत ने कहा था कि उसे  लोगों की आजादी के साथ समाज के हित को भी ध्यान में रखना पड़ता है।
अदालत ने कहा था कि उसने शिवकुमार की मेडिकल रिपोर्ट को ध्यान से पढ़ा है और पाया है कि भले ही उनकी एंजियोग्राफी हुई हो, लेकिन उनकी हालत स्थिर है और उन्हें दवा  लेने की सलाह दी गई है। प्रवर्तन निदेशालय ने पिछले साल सितंबर में शिवकुमार के खिलाफ मनीलॉड्रिंग का मामला दर्ज किया था। इसके अलावा नई दिल्ली में कर्नाटक भवन में  काम करने वाले हनुमनथैया और अन्य के खिलाफ भी मामला दर्ज किया गया था। यह मामला आयकर विभाग की ओर से बेंगलुरू की एक विशेष अदालत में इन लोगों के खिलाफ पिछले साल दायर किए गए आरोप पत्र पर आधारित है। इन लोगों पर कथित कर चोरी और हवाला के जरिए करोड़ों रुपए के लेन-देन का आरोप है। आयकर विभाग ने आरोपी शिवकुमार और उनके कथित सहयोगी एस के शर्मा पर आरोप लगाया है कि ये नियमित तौर पर तीन अन्य आरोपियों की मदद से हवाला के जरिए बिना हिसाब वाली नकदी की  बड़ी राशि भेजते थे। इससे पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं अहमद पटेल और आनंद शर्मा ने बृहस्पतिवार को तिहाड़ जेल पहुंचकर कर्नाटक के पूर्व मंत्री डीके शिवकुमार से मुलाकात  की और कहा कि उनके साथ जो हो रहा है वो अनुचित है। शिवकुमार मनी लॉड्रिंग के आरोप में प्रवर्तन निदेशालय द्वारा गिरफ्तार किए जाने के बाद न्यायिक हिरासत में हैं।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget