रात मे आतंक दिन मे क्रिकेट नही चलेगा

पाकिस्तान से वार्ता पर बोले विदेश मंत्री एस. जयशंकर

न्यूयॉर्क
पाकिस्तान से बातचीत की संभावनाओं को खारिज करते हुए विदेश मंत्री एस. जयशंकर ने कहा है कि पाकिस्तान एक चुनौतीपूर्ण पड़ोसी है, जो आतंकवाद को अपनी स्टेट पॉलिसी के  तौर पर इस्तेमाल करता रहा है। पाकिस्तान के साथ द्विपक्षीय क्रिकेट को लेकर अहम टिप्पणी करते हुए विदेश मंत्री ने कहा कि जनता की राय अहम होती है और उसे किनारे नहीं   रखा जा सकता। उन्होंने कहा कि किसी लोकतंत्र में जनभावना महत्व रखती है। एक संदेश मैं नहीं देना चाहता हूं कि आप रात में आतंकवाद करते हैं और दिन में सामान्य दिनचर्या  चले। बदकिस्मती से यही संदेश होगा, यदि हम भारत और पाकिस्तान के बीच क्रिकेट मैच की इजाजत देते हैं।
जयशंकर ने कहा कि पाकिस्तान ने हमेशा भारत पर बातचीत के दबाव के लिए आतंकवाद को एक टूल के तौर पर इस्तेमाल किया है। एक थिंक टैंक के कार्यक्रम को संबोधित करते  हुए जयशंकर ने कश्मीर और नई दिल्ली के इस्लामाबाद के संबंधों को लेकर पूछे गए एक सवाल के जवाब में यह बात कही। उन्होंने पाकिस्तान के साथ कश्मीर को अहम मुद्दा  मानने से इंकार करते हुए कहा कि आपने दो शब्दों का इस्तेमाल किया है, लेकिन मैं इन्हें अलग ढंग से कहना चाहूंगा। पहला कश्मीर है और दूसरा पाकिस्तान। मैं आपको बताता हूं   कि ऐसा क्यों कहा है। मैं नहीं मानता कि पाकिस्तान और भारत के बीच कश्मीर सबसे अहम मुद्दा है, बल्कि तमाम मुद्दों में से यह भी एक है। विदेश मंत्री ने कहा कि भारत के लिए  पाकिस्तान से बातचीत करना कोई मुद्दा नहीं है, लेकिन ऐसे किसी देश से बात कैसे हो सकती है, जो आतंकवाद को पाल-पोस रहा हो। उन्होंने कहा कि निश्चित ही हर कोई अपने  पड़ोसी से बात करना चाहता है। मुद्दा यह है कि हम एक ऐसे देश से बात कैसे कर सकते हैं, जो आतंकवाद फैलाता है और साफ-साफ कहा जाए, तो हकीकत से रू- ब-रू कराने पर  उससे इंकार करने की नीति अपनाता है। उन्होंने कहा कि वह यह (आतंकवाद) करते हैं, हालांकि दिखावा ऐसा करते हैं कि वह यह नहीं कर रहे। वे जानते हैं कि दिखावे में गंभीरता  नहीं है लेकिन फिर भी वह ऐसा करते हैं। अब आप इसका क्या उपाय निकालेंगे, मुझे लगता है कि यह हमारे लिए एक बड़ी चुनौती है।

पाकिस्तान क्यों नहीं दे रहा हमें कनेक्टिविटी
भारत और पाकिस्तान का इतिहास कोई सामान्य इतिहास नहीं है। विदेश मंत्री ने कहा कि पड़ोसी होने के बावजूद पाकिस्तान भारत के साथ व्यापार नहीं करेगा। वह विश्व व्यापार   संगठन का सदस्य है और उसे कानूनी तौर पर विशेष तरजीही राष्ट्र का दर्जा हमें देना चाहिए, लेकिन वह ऐसा नहीं करेगा, जबकि नई दिल्ली ने ऐसा किया है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget