पाजी पाक को पड़ा तमाचा

जिनीवा
कश्मीर के मुद्दे पर लगातार मुंह की खा रहा पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्र में एक बार फिर बड़ा तमाचा पड़ा है। कश्मीर में मध्यस्थता मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र ने स्पष्ट कर दिया कि  पाकिस्तान की अपील स्वीकार नहीं की जा सकती। यूएन महासचिव के प्रवक्ता की ओर से जारी बयान में स्पष्ट कहा गया है कि दोनों देशों को ही यह मुद्दा आपसी बातचीत के  जरिए सुलझाना होगा। 

मध्यस्थता पर यूएन की पाक को दो टूक 
बता दें कि कश्मीर मुद्दे पर संयुक्त राष्ट्र और अमेरिका से मध्यस्थता की गुहार लगा चुके पाकिस्तान को यूएन ने दो टूक जवाब दे दिया है। यूएन के सेक्रेटरी जनरल के प्रवक्ता  स्टीफन दुजारिक ने कहा कि मध्यस्थता पर हमारी स्थिति पूर्ववत ही है, उसमें कोई बदलाव नहीं हुआ है। महासचिव ने दोनों देशों की सरकार से संपर्क किया है। जी- 7 की बैठक में  भारत के प्रधानमंत्री से मुलाकात कर इस पर चर्चा की और पाकिस्तान के विदेश मंत्री से इस पर बात हुई है। बता दें कि कई अन्य देशों की ही तरह यूएन ने भी कश्मीर मुद्दे को  द्विपक्षीय बताया है। भारत हमेशा से ही मध्यस्थता की संभावना से इंकार करता रहा है।
संयुक्त राष्ट्र ने कश्मीर पर जारी तनाव पर स्पष्ट कहा कि दोनों देशों को शांतिपूर्ण तरीके से इस मुद्दे का समाधान ढूंढ़ना चाहिए। दोनों ही देशों को बातचीत के जरिए कश्मीर का हल  ढूंढ़ना होगा। बता दें कि भारत का स्पष्ट पक्ष है कि कश्मीर का मुद्दा द्विपक्षीय है और इसमें किसी प्रकार की मध्यस्थता या किसी तीसरे पक्ष का दखल भारत को स्वीकार नहीं है।  

भारत ने पहले ही यूएन में पाक के झूठ का किया पर्दाफाश 
बता दें कि संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार परिषद में जम्मू कश्मीर के मुद्दे पर भारत ने एक-एक कर पाकिस्तान के झूठ का पर्दाफाश किया। भारत की तरफ से विदेश मंत्रालय के सचिव  ने कहा कि हमारे कदम से पाकिस्तान को अहसास हो गया है कि उसके आतंकी मंसूबे अब कामयाब नहीं होंगे। भारत ने जम्मू-कश्मीर में हिंसा भड़काने के लिए पाकिस्तान को जिम्मेदार बताया।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget