आतंकियों के हमदर्द पाक का चेहरा बेनकाब

न्यूयॉर्क
आतंकियों के हमदर्द पाकिस्तान का चेहरा एक बार फिर दुनिया के सामने बेनकाब हो गया है। एक तरफ वह पाबंदियों और एक्शन का दिखावा करता है और दूसरी तरफ आतंकियों  का दर्द बांटने संयुक्त राष्ट्र भी पहुंच जाता है। मुंबई हमले के गुनहगार हाफिज सईद के खिलाफ टेरर फंडिंग का मामला चल रहा है इस बीच, पाकिस्तान ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा  परिषद से अनुरोध किया कि वैश्विक आतंकी हाफिज सईद के परिवार के मासिक खर्चे के लिए उसे बैंक खाते को इस्तेमाल करने की अनुमति दी जाए। यूएन ने पाकिस्तान के  अनुरोध पर जमात-उद-दावा के सरगना हाफिज सईद को उसके बैंक खाते को इस्तेमाल करने की इजाजत भी दे दी। 15 अगस्त के पत्र में हृस्ष्ट ने कहा कि इस अनुरोध को मंजूर  किया गया, क्योंकि तय समयसीमा के भीतर कोई आपत्ति नहीं की गई।यूएन के पत्र में पाकिस्तान सरकार को जानकारी दी गई है कि हाफिज सईद, हाजी मोहम्मद अशरफ और  जफर इकबाल को उनके सामान्य खर्चों के लिए बैंक खातों का इस्तेमाल करने की अनुमति दी जाती है। पत्र में बताया गया है कि 15 अगस्त 2019 तक आपत्ति दर्ज कराने की  समयसीमा तय की गई थी। अब पाकिस्तान के अनुरोध को मंजूर किया जाता है। बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद 1267 कमिटी को भेजे पत्र में पाकिस्तान ने दलील दी थी  कि हाफिज सईद के परिवार में चार सदस्य हैं और उस पर ही परिवार की जिम्मेदारी है। उसे अपने परिवार के लोगों के खाने-पीने, कपड़े आदि का प्रबंध करना पड़ता है इसलिए उसे  बैंक खाता इस्तेमाल करने की स्वीकृति दी जाए।
पाक सरकार ने यूएन कमिटी को बताया था कि उसका (हाफिज सईद) अकाउंट यूएनएससी रेजॉलूशन 1267 के तहत पाकिस्तान सरकार ने ब्लॉक कर दिया था। अकाउंट में 11.50   लाख रुपए है। यह खबर ऐसे समय में आई है, जब पाकिस्तान दुनिया के सामने दावा कर रहा है कि वह आतंकियों पर सख्त कार्रवाई कर रहा है। हाल में टेरर फंडिंग को लेकर  मुकदमा और गिरफ्तारी भी दिखाई गई। भारत ने आतंकियों पर इस तरह की कार्रवाई को पाक का ड्रामा बताया था और अब यह साबित होता दिख रहा है।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget