एसबीआई ग्राहकों के लिए जरूरी खबर

मुंबई
एक अक्टूबर से कई चीजें बदल जाएंगी, जिनका आपकी जेब से संबंध है। एसबीआई के कौन- से नियम बदल रहे हैं, कॉर्पोरेट टैक्स में बदलाव का क्या फायदा मिलेगा, जीएसटी रेट   का क्या होगा। यहां समझिए कौन-सा बदलाव आपके फायदे का और किससे होने वाला है आपको नुकसान। एसबीआई ने इंटरनेट और मोबाइल बैंकिंग ट्रांजैक्शंस पर मासिक सीमा को  पूरी तरह खत्म कर दिया है। अपने खाते में 25,000 रुपए का ऐवरेज मंथली बैलेंस रखने वाले ग्राहक बैंक ब्रांच से दो बार मुफ्त में पैसे निकाल सकते हैं। खाते में 25,000 से  50,000 रुपए तक का ऐवरेज मंथली बैलेंस रखने वाले शाखा से मुफ्त में 10 बार पैसे निकाल सकते हैं। खाते में 50,000 रुपए से अधिक तथा 1 लाख रुपए तक रखने वाले ग्राहक  बैंक शाखा से असीमित संख्या में पैसे निकाल सकते हैं। पेट्रोल पंपों पर एसबीआई क्रेडिट कार्ड से पेमेंट करने पर मिलने वाली 0.75 प्रतिशत की छूट एक अक्टूबर से खत्म कर दी  है। केंद्र सरकार ने डिजिटल पेमेंट को बढ़ावा देने के लिए ढाई साल पहले इसे शुरू किया था। अन्य बैंक भी यह छूट देते हैं, लेकिन उम्मीद है कि एसबीआई के इस कदम के बाद  अब अन्य कंपनियां भी उसके कदम को फॉलो करेंगी। ऐसे सरकारी कर्मचारी जिनकी मृत्यु एक अक्टूबर, 2019 तक 10 साल की सर्विस पूरा करने से पहले हो जाती है और उन्होंने   लगातार सात साल तक सेवा दी है तो उनके परिजनों को एक अक्टूबर, 2019 से उप नियम (3) के तहत बढ़ी हुई पेंशन दर के हिसाब शेयर पेंशन मिलेगी। कॉर्पोरेट टैक्स में बड़ी  कटौती का फायदा मिलना शुरू होगा। एक अक्टूबर के बाद स्थापित मैन्युफैक्चरिंग कंपनियों के पास 15 फीसदी टैक्स भरने का विकल्प होगा। इन कंपनियों पर सरचार्ज के साथ कुल  टैक्स 17.01 फीसदी हो जाएगा। जीएसटी काउंसिल ने 1000 रुपए किराए वाले होटल कमरों पर जीएसटी जीरो कर दिया है। इसके बाद 1001 से 7,500 रुपए तक के कमरों पर  जीएसटी को 18 प्रतिशत से घटाकर 12 प्रतिशत कर दिया गया है। इसी तरह, 7,500 रुपए से ऊपर के कमरों पर जीएसटी को 28 से घटाकर 18 प्रतिशत किया गया है। जीएसटी  की नई दरें उन लोगों पर भी लागू होंगी, जिन्होंने एक अक्टूबर के बाद के लिए बुकिंग की है। वहीं, रेल गाड़ी के डिब्बों पर जीएसटी की दर को 5 से बढ़ाकर 12 पर्सेंट किया गया है।  पेय पदार्थों पर जीएसटी 18 से बढ़ाकर 28 पर्सेंट कर दिया गया है। 5 करोड़ सालाना से ज्यादा टर्नओवर वाले कारोबारियों के लिए 1 अक्टूबर से नया जीएसटी रिटर्न आएगा। इन कारोबारियों को जीएसटीएएनएक्स-1 फॉर्म भरना होगा जो जीएसटीआर-1 की जगह लेगा, यह अनिवार्य होगा।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget