बारिश से पांच हजार घरों में घुसा नाले का पानी

प्रयागराज झमाझम बारिश से शहर के सभी नाले उफना गए। नालों के बैक फ्लो मारने से सैकड़ों घरों में पानी घुस गया। बुधवार से शुरू  हुई बारिश गुरुवार को भी जारी रही। पूरे दिन रिमझिम तो कभी  तेज बारिश होती रही। बारिश के चलते लोगों के घरों में बारिश का पानी घुस गया है। लोग घर से पानी निकालने के लिए परेशान रहे। जलभराव होने पर जलकल विभाग को सभी पंपिंग सेट  चालू करने पड़े। उधर रानीमंडी में चड्ढा रोड पर बारिश के कारण लालबाबू केसरवानी का पुराना मकान ढह गया। गनीमत रही कि कोई हताहत नहीं हुआ। अमिताभ बच्चन स्पोर्टस कांप्लेक्स के  समीप पेड़ गिर गया और खुसरोबाग में जलसंस्थान की पुरानी दीवार भी ढह गई। दो दिन से हो रही झमाझम बारिश से अल्लापुर, कैलाशपुरी, बाघंबरी हाउसिंग स्कीम, तिलक नगर, जार्जटाउन,  कर्नलगंज, सोहबतिया बाग, बैरहना, साउथ मलाका, करेली, गौसनगर, खुल्दाबाद, शिवकुटी, सलोरी, मेहंदौरी, राजापुर, नेवादा, सुलेमसराय सहित शहर के सभी मोहल्लों में जलभराव हो गया। पानी  निकल नहीं पाने के कारण नाले बैक फ्लो मारने लग गए। नालियों से घरों में पानी घुस गया। सड़कों पर जलभराव होने से लोगों की परेशानी बढ़ गई। दोपहर से लेकर शामतक लोग परेशान हो  गए। कैलाशपुरी में जलभराव अधिक होने पर बुधवार शाम को वहां पर दो नाव भेजी गई। सड़कों पर जलभराव से राह चलना मुश्किल हो गया था। कंपनी बाग के सामने हिंदू हॉस्टल से इंडियन  प्रेस चौराहे की ओर जाने वाला मार्ग तालाब के रूप में तŽदील नजर आया। अन्य जगहों पर भी स्थिति खराब रही। जार्जटाउन में कई सड़कें लबालब नजर आईं। पिछले एक महीने में तीसरी बार  झमाझम बारिश होने पर नगर निगम के दावों की पोल खुल गई। शहर के निचले इलाकों में जलभराव हो गया। लोग दोपहर से लेकर शाम तक परेशान रहे। पार्षद कमलेश सिंह का कहना है कि  नगर निगम ने जल निकासी के लिए जो इंतजाम किए हैं। वह पर्याप्त नहीं है। इसलिए लोगों को परेशानी झेलनी पड़ती है। राजरूपपुर में सैनिक कालोनी और कालिंदीपुरम में नंदगांव के पीछे  ले  की दीवार गिरने से पांच हजार घरों में गंदा पानी घुस गया है। दोनों वार्ड के पार्षदों ने महापौर और नगर आयुक्त से जलभराव होने की शिकायत की। राजरूपपुर में सैनिक कालोनी और  लिंदीपुरम में नंदगांव के पीछे के नाले की दीवार दो दिन पहले गिर गई थी। वार्ड नंबर 44 और 45 के पार्षद दो दिन से नाले से ईंटें निकलवा रहे थे। नाला जाम होने के कारण निकासी नहीं हो  पा रही थी, जहां पर नाले की दीवार गिरी है, वहां पर मशीन नहीं जा सकती है। इसलिए यह काम बहुत धीमे हो रहा था। बुधवार को दोपहर में बारिश होने पर लोगों की दिक्कत बढ़ गईं। पांच  हजार घरों में पानी घुस गया। 
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget