भारत को मिला आसमान का योद्घा

रक्षामंत्री ने की पूजा , राफेल मे भरी उड़ान

पैरिस
विजयादशमी के दिन आज जंग में विजय सुनिश्चित करने वाला दुनिया के शक्तिशाली लड़ाकू विमानों में से एक राफेल भारत को मिल गया है। पाकिस्तान में घुसकर आतंकियों पर   गई एयर स्ट्राइक को देखते हुए भारतीय वायुसेना की ताकत अब और बढ़ जाएगी। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस से पहला राफेल फाइटर जेट रिसीव किया। उसके कुछ
देर बाद फ्रांस के एयरबेस पर ही रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राफेल लड़ाकू विमान की विधिवत शस्त्र पूजा भी की। उन्होंने राफेल जेट पर 'ऊं' लिखा। भारत को मिले पहले राफेल जेट का नाम वायुसेना प्रमुख राकेश भदौरिया के नाम पर आरबी001 रखा गया है। बता दें कि राफेल की डिलिवरी अगले साल मई में होगी, क्योंकि भारत में इसे रखने के लिए अभी बुनियादी ढांचा तैयार हो रहा है। इससे पहले राजनाथ सिंह के साथ वाइस चीफ मार्शल हरजीत सिंह अरोड़ा फ्रांस के बोर्डोम्स स्थित एयरबेस पहुंचे, जहां 'हैंडओवर कार्यक्रम' के तहत उन्हें पहला राफेल जेट सौंपा गया। बार्डोम्स पहुचंने पर राफेल का निर्माण करने वाली कंपनी डसॉ एविएशन के सीईओ एरिक ट्रैपियर ने उनका स्वागत किया।

राफेल से बढ़ेगी वायुसेना की ताकत
हैंडओवर कार्यक्रम को रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने संबोधित भी किया। राजनाथ ने कहा कि आज ऐतिहासिक दिन है। आज भारत में दशहरा मनाया जा रहा है, जिसे हम बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाते हैं। आज वायुसेना दिवस भी है। आज का दिन कई मायनों में ऐतिहासिक है। भारत फ्रांस के बीच 23 सितंबर 2016 को राफेल पर अंतर सरकारी 
समझौता हुआ था। मुझे यह जानकर खुशी है कि इसकी डिलिवरी सही समय पर हो रही है और हमारी वायुसेना की क्षमता में वृद्धि लाएगा। हमारा फोकस हमारी वायुसेना की क्षमता बढ़ाने पर है। रक्षा मंत्री ने कहा कि मुझे खुशी है कि इस वक्त बड़ी संख्या में भारतीय वायु सेना के एयरमैन फ्रांस में फ्लाइंग, मेंटेनेंस और लॉजिस्टिम्स के क्षेत्र में ट्रेनिंग ले रहे हैं। उम्मीद है इस ट्रेनिंग से उन्हें भारत में मदद मिलेगी।

फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति को दी श्रद्धांजलि
राजनाथ ने पूर्व फ्रांसीसी राष्ट्रपति जैक शिराक को श्रद्धांजलि दी, जिनका हाल ही में निधन हो गया। उन्होंने कहा कि मैं भारत सरकार और देश जनता की तरफ से पूर्व राष्ट्रपति जैक शिराक को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। उन्होंने भारत-फ्रांस के बीच रणनीतिक संबंध स्थापित करने में हमारे पूर्व पीएम अटलजी के साथ महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। रक्षा मंत्री ने साथ ही डिफेंस के अलावा अन्य मुद्दों पर फ्रांस द्वारा समर्थन जताए जाने पर आभार जताया। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि दो बड़े लोकतंत्र आगे भी शांति, पर्यावरण स्थिरता सहित अन्य मसलों पर काम करते रहेंगे। राफेल में उड़ान भरना मेरे लिए सम्मान की बात है।

36 राफेल के लिए 59 हजार करोड़ की डील
गौरतलब है कि भारत ने करीब 59 हजार करोड़ रुपए में 36 राफेल लड़ाकू जेट विमान खरीदने के लिए सितंबर, 2016 में फ्रांस के साथ इंटर- गवर्नमेंटल अग्रीमेंट किया था। राफेल जेट भारत को उस दिन सौंपा जा रहा है जब भारतीय वायु सेना अपना स्थापना दिवस मना रही है।

अगले साल क्यों पहली खेप
भारत को पहला फाइटर जेट राफेल मंगलवार को प्राप्त हुआ है, लेकिन पहली खेप अगले वर्ष मई में मिलेगी क्योंकि इसे रखने और संचालन के लिए जरूरी बुनियादी ढांचे को तैयार किया जा रहा है। वहीं, राफेल को रिसीव करने से पहले रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने फ्रांस के राष्ट्रपति इमैन्युएल मैक्रों से मुलाकात की। बैठक आधे घंटे चली जिसमें महत्वपूर्ण मसलों पर व्यापक चर्चा हुई। गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर भारत का एयरफोर्स डे सेलिब्रेशन हुआ। इसमें 54 एयरक्राफ्ट्स की क्षमता का प्रदर्शन देखकर लोगों ने अपनी दातों तले उंगली दबा ली।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget