बलरामपुर के पुलिस कर्मियों को अंग्रेजी में देना होगा छुट्टी का आवेदन

बलरामपुर
 यूपी के बलरामपुर जिले में एसपी देवरंजन वर्मा ने पुलिस विभाग में एक नई कवायद शुरू  की है। एसपी ने पुलिसकर्मियों को अंग्रेजी पेपर पढ़ने की सलाह दी है, क्योंकि अब छुट्टी के दिए जाने  वाले प्रार्थना पत्र केवल अंग्रेजी में ही स्वीकार किये जायेंगे। जो प्रार्थना पत्र हिंदी में होंगे उन्हें स्वीकार नहीं किया जायेगा। ऐसे में अंग्रेजी पढ़ना पुलिसकर्मियों की मजबूरी बन जाएगा। पुलिसकर्मियों  को अंग्रेजी का पाठ पढ़ाने के लिए पुलिस अधीक्षक सभी थानों और कोतवाली में कार्यशाला का आयोजन भी कर रहे हैं। एसपी ने साफ तौर पर कहा है कि अपराधी नए तरीके से अपराध कर रहे हैं, लेकिन पुलिस आज भी पुराने ढर्रे पर चल रही है। पुलिस को अपने में बदलाव लाना जरूरी है, जिसके लिए सबसे पहले भाषाशैली में बदलाव लाना चाहिए।
एसपी ने मातहतों को आदेश दिए हैं कि अंग्रेजी की डिक्शनरी खरीद लें। सुबह व्यायाम के बाद पुलिस लाइन व थानों में हिंदी व अंग्रेजी का अखबार उपलब्ध रहेगा। हर रोज हर एक सिपाही को  पांच-पांच इंग्लिश के शŽद याद करने पड़ेंगे, जिसको एक डायरी में लिखना भी पड़ेगा, ताकि कभी भूल जाने पर रिपीट किया जा सके। इतना ही नहीं एसपी ने कहा है कि सिपाहियों को आपस में  बात करते समय अंग्रेजी बोलने की आदत डालनी होगी।
अवकाश लेने के समय अंग्रेजी सीखने का रजिस्टर, डिक्शनरी व अखबार खरीदने की रसीद दिखानी होगी। एसपी का तर्क है कि अंग्रेजी की जानकारी ना होने के कारण पुलिसकर्मी सुप्रीम कोर्ट  और हाईकोर्ट का आदेश नहीं समझ पाते। कानून की अधिकतर किताबें भी अंग्रेजी में है, जिसे भी समझना मुश्किल हो जाता है। साइबर क्राइम, सर्विलांस की किताब इंग्लिश में है, कंप्यूटर का  सारा ज्ञान भी इंग्लिश में है इसीलिए इंग्लिश पढ़ना जरूरी है। एसपी का मानना है कि इस पहल से पुलिस की कार्यशैली में सुधार आएगा।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget