विशाखापत्तनम में भारत की जीत

विशाखापत्तनम
विशाखापत्तनम में खेले गए तीन टेस्ट मैच की सीरीज के पहले टेस्ट मैच में टीम इंडिया ने साउथ अफ्रीका को 203 रन से शिकस्त देकर सीरीज में 1-0 की बढ़त बना ली है। साउथ अफ्रीकी टीम की दूसरी पारी में मोहम्मद शमी (5/35) और रवींद्र जडेजा (4/87) ने सर्वाधिक विकेट अपने नाम किए। मैच के पांचवें और अंतिम दिन टीम इंडिया को जीत के लिए  नौ विकेट की दरकार थी। शानदार रिदम में उतरी टीम इंडिया ने दिन के पहले दो सत्रों तक ही जीत अपने नाम कर ली। दिन के पहले ही सत्र में मोहम्मद शमी और रवींद्र जडेजा के  घातक स्पेल ने अफ्रीकी टीम के एक के बाद सात बल्लेबाजों को पैवेलियन भेजा, जबकि अंतिम दो विकेट झटकने के लिए भारत ने दूसरे सत्र में 22 ओवर और गेंदबाजी कर यह  मैच अपने नाम कर लिया। इस मैच में आठ विकेट झटकने वाले रविचंद्रन अश्विन ने सबसे तेज 350 विकेट लेने के वर्ल्ड रिकॉर्ड की बराबरी भी की। इससे पहले शनिवार को भारत  ने अपनी दूसरी पारी में रोहित शर्मा (127) के उ्दा शतक की बदौलत 323/4 के स्कोर पर घोषित की थी, जबकि पहली पारी में उसे 71 रन की लीड मिली थी। इस तरह अफ्रीकी  टीम के सामने यहां जीत के लिए 395 रन का लक्ष्य था। इस टारगेट के जवाब में उतरी अफ्रीकी टीम ने शनिवार चौथे दिन का खेल खत्म होने तक 11 रन पर अपना एक विकेट  गंवा दिया था। यहां से आगे खेल का शुरू करने आई अफ्रीकी टीम के लिए रविवार को कुछ भी उसके पक्ष में होता नहीं दिखा। आते ही दिन के दूसरे ओवर में रविचंद्रन अश्विन ने  थेयुनिस डे ब्रूयन को बोल्ड कर द. अफ्रीकी टीम के अरमानों पर पानी फेरना शुरू किया। यह अश्विन का इस टेस्ट मैच मैं आठवां विकेट था और अपने कॅरियर का 66वां टेस्ट खेल   रहे इस ऑफ स्पिनर ने सबसे तेज 350 विकेट के वर्ल्ड रिकॉर्ड की भी बराबरी कर ली। अब अश्विन सबसे तेज 350 टेस्ट विकेट लेने के मामले में श्रीलंका के मुथैया मुरलीधरन के   साथ संयुक्त रूप से पहले स्थान पर हैं। इस टेस्ट मैच में मोहम्मद शमी के हाथ चौथे दिन तक कोई सफलता नहीं लगी थी, लेकिन मैच के पांचवें दिन उन्होंने उनकी सटीक लाइन- लेंथ का इनाम मिला और उन्होंने एक के बाद एक अफ्रीकी टीम के चार बल्लेबाजों को बोल्ड कर दिया। शमी ने सबसे पहले तेंबा बवूमा (0) को नीची रहती एक गेंद पर चारों खाने  चित किया। इसके बाद कप्तान फाफ डु प्लेसिस (13) लड़खड़ाई पारी को सहारा देने का प्रयास कर रहे थे कि शमी ने डु प्लेसिस की भी गिल्लियां बिखेर दीं। एक लंच ब्रेक के बाद  उन्होंने पारी का नौवां विकेट भी डेन पीट को बोल्ड कर अपने नाम किया। डु प्लेसिस के बाद अपने अगले ओवर में शमी ने पिछली पारी में शानदार शतक जड़ने वाले क्विंटन डि  कॉक को इस बार खाता भी खोलने का मौका नहीं दिया और उन्हें बोल्ड कर मैच में तीसरी सफलता अपने नाम की। इस तरह उन्होंने मेहमान टीम की कमर ही तोड़कर रख दी।  अफ्रीकी टीम को यह पांचवां झटका था। टीम इंडिया इस मैच में अपनी रणनीतियों पर खरी उतर रही थी। अब कप्तान विराट कोहली ने गेंद रवींद्र जडेजा को सौंप दी। शनिवार को  भारत को डीन एल्गर (2) के रूप में पहली सफलता दिलाने वाले जड्डू ने यहां भी निराश नहीं किया। उन्होंने आते ही एडिन मार्करम (39) को अपनी ही गेंद पर कैच कर पैवेलियन भेजा।
इसके बाद इसी ओवर में वर्नोन फिलेंडर (0) और केशव महाराज (0) को भी पगबाधा आउट कर पैवेलियन की राह दिखा दी। इसी ओवर में जडेजा हैट्रिक चांस पर भी थे, लेकिन  उनकी हैट्रिक बॉल पर बल्लेबाजी पर आए डेन पीट गेंद को बखूबी संभाल गए। दूसरी पारी में अफ्रीकी टीम के लिए कुछ भी सही होता नहीं दिख रहा था, लेकिन नौवें विकेट के लिए  सेनुरान मुथुसामी और डेन पीट ने भारतीय बोलिंग से अंत तक लड़ने का अपना जज्बा दिखाया।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget