बाढ़ पीड़ितों का फूटा गुस्सा

पटना
 राजधानी पटना में जन सैलाब के 15 दिन बाद भी समस्या और गंदगी झेल रहे लोगों का धैर्य अब जवाब देने लगा है। लोग जहां सड़कों पर उतर कर मदद की गुहार लगा रहे हैं, वहीं सड़क  जाम कर स्थिति को सुधारने की मांग भी लगातार जारी है। इस कड़ी में रविवार को जल कैदी बने लोगों को धैर्य आखिरकार जवाब दे गया और लोगों ने डिप्टी सीएम सुशील कुमार मोदी को ही  लपेटे में ले लिया। पटना के राजेंद्र नगर इलाके में जलजमाव, गंदगी और डेंगू जैसी बीमारी झेल रहे लोगों ने राज्य के डिप्टी सीएम सुशील मोदी का घर घेर लिया है। सैकड़ों की संख्या में रहे लोगों ने डिप्टी सीएम सुशील मोदी के राजेंद्र नगर स्थित पैतृक घर को लेर लिया और आक्रोशपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं। पटना में लोगों ने सुशील मोदी के जिस घर को घेरा है, वहीं से भीषण बारिश  दौरान डिप्टी सीएम सुशील मोदी को रेस्क्यू किया गया था। आक्रोशित लोगों ने इस दौरान डिप्टी सीएम हाय-हाय के नारे भी लगाए और उनसे मिलने की मांग की। लोगों का कहना था कि सरकार जलजमाव के लिए जिम्मेदार और लापरवाह अधिकारियों पर कड़ी कार्रवाई करे। लोगों के आक्रोश को देखते हुए इलाके में बड़ी संख्या में पुलिस बल को बुलाया गया। पुलिस लगातार लोगों को समझाने का प्रयास कर रही है। लोगों में आक्रोश। लोग सुशील मोदी पर आरोप लगा रहे हैं कि जलजमाव के समय सुशील मोदी ने देखातक नहीं यहा कारण है कि बारिश छूटने के 10 दिन बाद  भी पटना के लोग जल कैदी बनने पर मजबूर हैं। दूसरी तरफ पटना में ही लोगों ने जलजमाव को लेकर सगुना मोड़ को भी जाम कर दिया और आगजनी कर प्रदर्शन कर रहे हैं।
Labels:

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget