राफेल को काउंटर करने वाला रडार सिस्टम पाक को देने से चीन का इंकार

Radar
नई दिल्ली
फ्रांसीसी राफेल लड़ाकू विमान के भारत को मिलने के बाद से पाकिस्तान का डर सामने आ रहा है। राफेल से परेशान पाकिस्तान ने अपने दोस्त चीन से उधार विमान मांगा। लेकिन  चीन ने विमान को उधार देने से इंकार कर दिया। बावजूद इसके एक बार फिर पाकिस्तान ने चीन के सामने अपग्रेडेड रडार और एयरक्राक्ट की मांग रखी है। इस बार भी चीन ने  पाकिस्तान की मांग को मानने से इंकार कर दिया है। पाकिस्तानी सेना प्रमुख जनरल कमर जावेद बाजवा और प्रधानमंत्री इमरान खान ने राफेल को काउंटर करने के लिए चीन से  अपग्रेडेड रडार प्रणाली और आधुनिक एयरक्राक्ट की मांग की है। साथ ही पाकिस्तान को दिए गए छ्वस्न-17 थंडर फाइटर जेट को भी अपग्रेड करने की बात रखी है। हालांकि चीन ने  अपने सदाबहार दोस्त की इस मांग को पूरा करने से मना कर दिया है। चीन द्वारा पाकिस्तान की हालिया मांग को मानने से इंकार करने के तीन कारण हैं- 
1. चीन को लगता है कि पाकिस्तान खस्ताहाल अर्थव्यवस्था की वजह से कर्ज चुकाने में असमर्थ है। इसलिए दुनिया भर में चल रही मंदी के बीच पाकिस्तान को क्रेडिट पर हथियार  बेचना फायदे का सौदा नही है। इसके अलावा चीन ने कश्मीर में आतंकियों के पास से मिल रहे चीनी ग्रेनेड और दूसरे चीनी हथियारों के बारे में भी इमरान और बाजवा से नाराजगी  जताई है। 
2. खुफिया सूत्रों के मुताबिक चीन ने कहा कि जो हथियार पाकिस्तान की सेना के लिए दिए जा गए थे, वो आतंकियों के हाथ में कैसे पहुंचे। चीन को लगता है कि चीनी हथियारों के  आतंकियों के हाथ में पहुंचने से उसकी अंतर्राष्ट्रीय छवि खराब हो रही है। इसके साथ ये संदेश भी जा रहा है कि चीन कश्मीर में आतंकियों की मदद कर रहा है। लेकिन चीन की  मजबूरी है कि वो पहले ही पाकिस्तान में काफी निवेश कर चुका है। 
3. चीन अकेले पाकिस्तान इकनोमिक कॉरिडोर में 46 बिलियन डॉलर का निवेश कर चुका है।

Post a Comment

[blogger]

MKRdezign

Contact Form

Name

Email *

Message *

Powered by Blogger.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget